लोनी, जेएनएन। नॉर्वे की प्रधानमंत्री एरना सोलबर्ग बच्चों का साहस और उत्साह देखकर उनकी कायल होती दिखीं। एक कक्षा में निरीक्षण करने पहुंची प्रधानमंत्री को छात्रा ने ऐसा जवाब दिया कि वे ताली बजाने को मजबूर हो गईं। साथ ही उन्होंने छात्रा को गले से लगा लिया और भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं। कक्षा का निरीक्षण करने पहुंचीं एरना सोलबर्ग ने एक छात्रा से सवाल किया कि बड़े होकर क्या बनोगी। इस पर छात्रा ने जवाब दिया कि पुलिस अधिकारी। पीएम ने पूछा क्यों तो छात्रा ने कहा कि जो लोग महिलाओं और लड़कियों को परेशान करते हैं उन्हें जेल भेजूंगीं।

पीएम ने बजाई ताली
इस पर पीएम खुद को ताली बजाने से नहीं रोक सकीं। उन्होंने बच्ची का अभिवादन किया। शिक्षा के महत्व पर नन्हें बच्चों की नाटिका देखकर की प्रशंसा मीना मंच की छात्राओं ने शिक्षा के महत्व को लेकर एक लघु नाटिका प्रस्तुत की।

अनपढ़ होने का उठाया फायदा
इसमें छात्राओं ने दिखाया कि किस प्रकार एक व्यक्ति अपने घर के बच्चों को पढ़ने नहीं भेजता और एक अन्य व्यक्ति उसके अनपढ़ होने का फायदा उठाकर उसे ठग लेता है। इसके बाद वह बच्चों को स्कूल भेजता है। नाटिका में छात्राओं का अभिनय देखकर पीएम ने उसकी प्रशंसा की। नाटिका प्रस्तुत करने वाले बच्चों ने भी पीएम के साथ फोटो खिंचवाए।

छात्र दिखे उत्साहित
नॉर्वे की प्रधानमंत्री हमारे स्कूल को देखने आईं हैं। पूरा स्कूल उनसे मिलने के लिए उत्साहित है। हम सब पढ़ेंगें और देश को भी आगे बढ़ाएंगें।
महजबीं, छात्रा

विदेश से आए लोगों ने बच्चों से बात की है। बहुत अच्छा लगा है। न सिर्फ खुद पढ़ेंगें बल्कि दूसरों को भी पढ़ाएंगें।
जीशान, छात्र

एक महिला होकर नॉर्वे की प्रधानमंत्री पूरा देश चला रही हैं। विदेशों की भी यात्रा कर रही हैं। उनसे प्रेरणा लेकर खूब पढूंगीं और पूरे देश को शक्तिशाली बनाउंगी।
रुकैया, छात्रा

शिक्षा और स्वच्छता के बारे में बहुत जानकारी मिली है। अब इस जानकारी को अपनी उन सहेलियों तक भी पहुंचाउंगी जो स्कूल नहीं आती। उन्हें स्कूल लाउंगीं।
ज्योति, छात्रा

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप