नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]।  40वें अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले के दरवाजे शुक्रवार से आम दर्शकों के लिए भी खुल जाएंगे। ऐसे में अब यहां रोजाना ही अच्छी खासी भीड़ देखने को मिलेगी। हालांकि मेला आयोजक भारत व्यापार संवर्धन संगठन (आइटीपीओ) ने हर दिन मेले में एक बार में 30 से 35 हजार दर्शकों को ही प्रवेश देने की योजना बनाई है। अधिक भीड़ होने पर इस संख्या को कभी भी कम किया जा सकता है।

आनलाइन -आफलाइन दोनों तरीके से मिल रही टिकट, जानें रेट

व्यापार मेले के लिए टिकट की बिक्री आनलाइन और आफलाइन दोनों तरह से हो रही है। आनलाइन टिकट के लिए बुक माई शो का सहारा लेना होगा जबकि आफलाइन टिकट प्रगति मैदान स्टेशन को छोड़कर 65 मेट्रो स्टेशनों से लिया जा सकता है। प्रगति मैदान या यहां के मेट्रो स्टेशन पर टिकट नहीं मिलेगा। शनिवार-रविवार और छुटटी के दिन व्यस्कों की टिकट जहां 150 रुपये का होगा। वहीं, कार्य दिवसों पर 80 रुपये का रहेगा। वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों का प्रवेश नि:शुल्क रखा गया है।

एक नजर में मेला

इस साल यह तीन गुना अधिक 70 हजार वर्ग मीटर क्षेेत्र में लगाया गया है। पहली बार चार नए हाल नं. दो, तीन, चार व पांच भी मेले का हिस्सा बने हैं। आत्मनिर्भर भारत थीम के मददेनजर इस बार वोकल फार लोकल की तर्ज पर भारतीय हुनर को प्राथमिकता दी गई है। मेले में 30 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के औद्योगिक विकास, हथकरघा, लोक संस्कृति और व्यंजनों का लुत्फ लिया जा सकता है। इस बार देशी-विदेशी तीन हजार से अधिक प्रदर्शक भाग ले रहे हैं। पार्टनर स्टेट जहां बिहार है वहीं फोकस स्टेट उत्तर प्रदेश व झारखंड है। विदेशों की करें तो अफगानिस्तान, बांग्लादेश, बहरीन, र्किगिस्तान, नेपाल, श्रीलंका, यूएई, ट्यूनिशिया व तुर्की इस बार हिस्सा ले रहे हैं।

कहां मिलेगा क्या, देखने व खरीदने को

-हाल नंबर 12 में केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड, आयकर विभाग, गुड लिविंग, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड के अलावा बहुउत्पाद आपको देखने को मिलेंगे। यहां आपको घर के सजावटी सामानों की भरमार सहित क्राकरी, बर्तन, होम एप्लाइंसेज, स्टील के बर्तन, घडिय़ां, कुशन कवर इत्यादि मिलेंगें।

-हाल संख्या 12ए में आपको विभिन्न राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय ब्रांड के सौंदर्य प्रसाधनों की पूरी रेंज मिलेगी। यहां आपको स्टोन ज्वेलरी सहित भारत के विभिन्न राज्यों की ट्रेडिशनल ज्वैलरी भी देखने को मिलेगी।

-यदि आप नए-नए प्रयोगों के प्रति काफी रूझान रखते हैं तो इसके लिए आपको 12 के अलावा 11 में जरूर जाना चाहिए। जहां आपको बेकरी इंडस्ट्री से जुड़ी कंपनियों के साथ ही स्पोर्टस का सामान भी मिलेगा। इसके अलावा हाल संख्या 8 व 9 में भी इलेक्ट्रोनिक्स मशीनें व तकनीक से जुड़े प्रोडक्ट्स देख सकते हैं।

-हिमाचल प्रदेश का पवेलियन बेहद खूबसूरत बना है जिसमें बच्चों को शिक्षित होने के बाद सफलता की सीढ़ियां चढते हुए दिखाया गया है। यहां आप गर्म कपड़े खरीद सकते हैं। साथ ही हिमाचल प्रदेश के वाद्य यंत्रों व नृत्यकला का भी आनंद उठा सकते हैं।

-असम पवेलियन में आपको हैंडक्राफ्ट्स के काम की झलक देखने को हर जगह मिलेगी। जिसमें बांस से बने सजावटी सामान, पर्स, ज्वेलरी व फूल शामिल हैं। इसके साथ ही असम की चाय और काले चावल के प्रोडक्ट्स आपका ध्यान अपनी ओर बरबस खींच लेंगे।

-हरियाणा पवेलियन में बदलते हरियाणा की झलक दिखाई देगी। जिसमें तकनीक के साथ कैसे पूरे हरियाणा को जोड़ा जा रहा है इसे 5डी टेक्नोलॉजी के माध्यम से खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर बताते हुए दिखाई देंगे।

-पंजाब का पवेलियन इस बार भी पूरी तरह कृषि पर फोकस दिखाई दे रहा है। यहां कृषि से संबंधित उपकरणों के साथ ही उन्नत बीजों, मिल्क फूड्स प्रोडक्ट्स के बारे में जानकारी आप ले सकते हैं। इसके साथ ही फुलकारी का दुपट्टा भी खरीद सकते हैं।

-दिल्ली देश की राजधानी होने के साथ ही ऐतिहासिक रूप से काफी समृद्ध है। इस बार दिल्ली के पवेलियन में शाहजहांनाबाद के मॉडल की झलक दिखेगी। जिसमें चांदनी चौक के सौंदर्यकरण, लालकिला, स्मॉग टॉवर सहित विभिन्न विभागों के काम-काज की झलक दिखेगी।

-उत्तर प्रदेश मंडप का सर्वप्रमुख आकर्षण राम मंदिर की प्रतिकृति है। यहां दर्शक आते हैं तो सेल्फी लिए बिना नहीं जाते। मंडप के प्रवेश द्वार को मंदिर के गेट की तरह बनाया गया है। अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव है। चुनाव के मद्देनजर योगी सरकार की उपलब्धियां भी प्रदर्शित की गई हैं। मेले में इस साल उत्तर प्रदेश फोकस स्टेट है, इसीलिए उत्तर प्रदेश मंडप को सर्वाधिक को दो हज़ार वर्ग मीटर जगह दी गई है।

कहां मिलेंगी खाने की वस्तुएं

नवनिर्मित हालों के ठीक सामने फूड कोर्ट बनाया गया है। जहां आप कई राज्यों के व्यंजनों का आनंद ले पाएंगे। इसके अलावा नवनिर्मित बिल्डिंग के भीतर बने राज्यों के पवेलियन में प्रत्येक राज्य के बने व्यंजनों का स्वाद चखने के साथ ही उन्हें खरीद भी सकते हैं। यहां आपको अचार, पापड़, चटनी, मोरब्बा, दालें, नमकीन, गजक के अलावा कई बेहतरीन मिठाईयां भी दिखेंगी।

सांस्कृतिक कार्यकमों का लेना है मजा तो जाने कार्यक्रम

अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में इस बार नए बने एम्फीथिएटर में दर्शक राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों की संस्कृति की झलक को देख पाएंगे। पहले की तरह ही रोजाना किसी एक या फिर दो राज्यों का स्टेट डे मनाया जाएगा और इस दौरान उनके कलाकारों द्वारा अपने राज्य की सांस्कृतिक विरासत को नृत्य-गायन सहित अन्य तरीकों से दर्शाया जाएगा।

जाने कब किस राज्य का होगा कार्यक्रम :-

  • 19 नवंबर को त्रिपुरा 2:30 मिनट व उत्तराखंड शाम 5:30
  • 20 नवंबर को असम 5:30 बजे
  • 21 नवंबर को पश्चिम बंगाल 5:30 बजे
  • 22 नवंबर को बिहार 2:30 बजे व दिल्ली का शाम 5:30 बजे
  • 23 नवंबर को जम्मू कश्मीर शाम 5:30 बजे
  • 24 नवंबर को झारखंड 2:30 व राजस्थान शाम 5:30 बजे
  • 25 नवंबर को केरल शाम 5:30 बजे
  • 26 नवंबर को महाराष्ट्र शाम 5:30 बजे

प्रवेश के लिए हैं चार द्वार

व्यापार मेले में प्रवेश के लिए इस बार चार द्वार होंगे। मेट्रो से आने वाले गेट नंबर 10 से आएंगे। बस, टैक्सी और अपनी गाड़ियों से आने वाले लोग गेट नंबर चार, पांच ए और पांच बी से प्रवेश करेंगे।

ऐसे पहुंचे प्रगति मैदान

मेट्रो से आने वाले ब्लू लाइन मेट्रो के जरिए प्रगति मैदान मेट्रो स्टेशन पर उतर सकते हैं। प्रगति मैदान जाने के लिए मंडी हाउस मेट्रो स्टेशन पर भी उतरकर पैदल जा सकते हैं। डीटीसी और क्लस्टर बसों का उपयोग करने वाले मथुरा रोड और भैरों रोड बस स्टॉप से व्यापार मेले में जा सकते हैं।

यहां होगी पार्किंग

  • भैरो मंदिर
  • चिड़ियाघर पार्किंग
  • नेशनल स्टेडियम
  • आइपी बस डिपो

Edited By: Prateek Kumar