नई दिल्ली [राहुल चौहान]। आइजीडीटीयूडब्ल्यू भविष्य में नई ऊचाईयों को प्राप्त करेगा, क्योंकि नारी शक्ति एक बड़ी ताकत है। जिस तरह से छात्राओं ने अपने प्रोजेक्ट और प्लेसमेंट दिखाए हैं वह काबिले तारीफ हैं। यह बातें उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने शनिवार को इंदिरा गांधी दिल्ली तकनीकी महिला विश्वविद्यालय (आइजीडीटीयूडब्ल्यू) में आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत आयोजित कार्यक्रम में कहीं। इस दौरान उन्होंने विश्वविद्यालय में 165 फीट ऊंचा तिरंगा भी फहराया।

सक्सेना ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री का सपना है कि अमृत महोत्सव को इस तरह से मनाया जाए कि देश की ताकत दुनिया को दिखे। एलजी ने विश्वविद्यालय में छात्राओं के अच्छे प्लेसमेंट रिकार्ड की भी सराहना की। विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. अमिता देव ने उपराज्यपाल व विश्वविद्यालय के कुलाधिपति वीके सक्सेना को छात्रों के अच्छे प्लेसमेंट, विभिन्न सामाजिक पहलों, विश्वविद्यालय द्वारा जीते गए विभिन्न पुरस्कारों, रैंकिंग के बारे में बताया।

उन्होंने बताया कि इस साल कुल 192 छात्राओं को गूगल, माइक्रोसाफ्ट, एडोब सहित कई शीर्ष देशी-विदेशी कंपनियों से प्री प्लेसमेंट आफर मिल चुके हैं। इनमें छात्राओं को औसतन वेतन 35 लाख रुपये है जबकि उच्चतम पैकेज 82 लाख रुपये है।

कार्यक्रम के दौरान उपराज्यपाल ने कई छात्राओं को सम्मानित भी किया, जिन्होंने हाल ही में अपनी इंटर्नशिप पूरी की है और उन्हें शीर्ष टेक कंपनियों द्वारा प्री-प्लेसमेंट आफर की पेशकश की गई है। समारोह के दौरान छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए।

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में नेशनल बोर्ड आफ एक्रेडिटेशन के अध्यक्ष प्रो. के. के. अग्रवाल, प्रशिक्षण एवं तकनीकी शिक्षा सचिव आर एलिस वाज़ और प्रो. आइपी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. महेश वर्मा मौजूद रहे। कुलसचिव प्रो. आर. के. सिंह ने सभी गणमान्य व्यक्तियों का धन्यवाद ज्ञापित किया। आइजीडीटीयूडब्ल्यू में आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत 13 से 15 अगस्त तक विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें- संबित पात्रा का केजरीवाल सरकार पर निशाना, कहा सिसोदिया को जेल जाने से बचाने के लिए हंगामा कर रहे हैं आप नेता

Edited By: Prateek Kumar