नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। यातायात पुलिस की तीसरी आंख (सीसीटीवी कैमरा) से सड़कों पर बचने के लिए चालक इन दिनों अलग-अलग तरह के हथकंडे अपना रहे हैं, जिसके चलते उनके आनलाइन चालान नहीं कट पाते हैं। वहीं, अब यातायात पुलिस ने अब सड़कों पर उतरकर ऐसे ही वाहनों को चिन्हित करना शुरू कर दिया है, जिनका चालान काटा जा रहा है। यातायात पुलिस ने इसके लिए विशेष अभियान चलाया है, जिसमें सप्ताह भर में 350 से अधिक चालान अब तक काटे जा चुके हैं।

यातायात पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि आनलाइन चालान के दौरान ऐसी गाडि़यां चिन्हित नहीं हो पा रही थी, जो नंबर प्लेट छिपाकर सड़क पर दौड़ रही थी। सीसीटीवी कैमरों में देखने में आया है कि लोग नंबर प्लेट पर काली चोटी (काला कपड़ा), कीचड़, मिट्टी, नजर का टीका, रोली का टीका व अन्य सामान लगाकर वाहनों पर चलते हैं, जिसके कारण उनका स्पीड, स्टाप लाइन का उल्लंघन, लाल बत्ती का उल्लंघन समेत अन्य तरीके के चालान नहीं कट पा रहे हैं।

विशेष पुलिस आयुक्त यातायात मुक्तेश चंद्र के निर्देश में इन दिनों राजधानी में अब नंबर प्लेट छिपाकर चलने वाले वाहनों को शारीरिक तौर पर चालान काटा जा रहा है। इसके लिए आइटीओ, कश्मीरी गेट, मधुबन चौक, धौला कुआं, द्वारका, पालम, समेत प्रमुख स्थानों पर यातायात पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है, जो गाडि़यों से चोटी व अन्य छिपाने वाली चीजों को हटा रहे हैं। साथ ही चालकों को हिदायत भी दे रहे हैं कि वह भविष्य में इस तरह की गलतियां ना करें और यातायात नियमों का पालन करें।

दरअसल बहुत से वाहन चालक ट्रैफिक पुलिस के कैमरों से बचने के लिए इस तरह के हथकड़ें अपनाते हैं वो अपने वाहन की नंबर प्लेट पर इस तरह से कुछ न कुछ लगा लेते हैं जिससे वो रेड लाइटों पर लगे कैमरे से बच सके। यदि कैमरा गाड़ी के नंबर प्लेट की पूरी डिजिट नहीं पकड़ पाता है तो गाड़ी का चालान नहीं हो पाता है। एक भी अंक या सीरिज छिप जाने पर वो बच जाते हैं। इसको रोकने के लिए ही अब पुलिस की ओर से ये कदम उठाया जा रहा है।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari