नई दिल्ली/ पुन्हाना (नूंह), जागरण संवाददाता। दिल्ली-एनसीआर में पिछले कई दिनों से हो रही बारिश ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। नूंह के पुन्हाना में लगातार बारिश से एक मकान गिर गया। मलबे में दबकर एक ही परिवार के दो लोगों की मौत हो गई जबकि चार लोग घायल हैं। दिल्ली में जहां बारिश की वजह से कई जगहों पर सड़कें पानी से लबालब हो गई हैं, वहीं  जलभराव से सड़के भी धंस रही हैं। ताजा मामला दक्षिणी दिल्ली में सामने आया है। आईआईटी फ्लाईओवर के नीचे सड़क धंस गई है। सड़क धंसने के कारण यातायात का डायवर्जन (divirsion) किया गया है। 

मिली जानकारी के अनुसार, सड़क धंसने से कोई हादसा नहीं हुआ है। गड्ढे के आस-पास घेराबंदी कर दिया गया ताकि कोई हादसा न हो सके।

इससे पहले 19 जुलाई को बारिश के दौरान द्वारका इलाके में सड़क पर बड़ा गड्ढा हो गया था। द्वारका सेक्टर 18 स्थित अतुल्य चौक पर एक चलती कार के नीचे सड़क धंस गई। कार गड्ढे में समा गई थी। गड्ढ़ा इतना बड़ा था कि पूरी कार गड्ढे में समा गई। आसपास गुजर रहे वाहन चालकों ने अचानक हुई जोरदार आवाज के बाद अपने वाहन रोके और कार का शीशा तोड़कर कार चला रहे पुलिस कांस्टेबल को बाहर निकाला। गनीमत यह रही कि कांस्टेबल को ज्यादा चोटें नहीं आई।

बारिश से मकान गिरा, दो की मौत, चार घायल

पुन्हाना उपमंडल के सिंगार गांव में बारिश के कारण मकान गिरने से एक ही परिवार के दो लोगों की मौत हो गई जबकि चार अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को नल्हड के मेडिकल कॉलेज में दाखिल कराया जहां उनकी हालत गंभीर है। सूचना पर बिछोर थाना प्रभारी रमेश चंद पुलिस कर्मचारियों के साथ मौके पर पंहुचे और शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मांडीखेडा के अस्पताल भेज दिया। घटना के बाद गांव में मातम पसरा हुआ है।

जानकारी के मुताबिक सिंगार गांव निवासर हासम अपने परिवार के साथ गांव से बहार खेतों पर बनाए मकान मे पिछले काफी समय रह रहा है। रात में हुई तेज बारिश के कारण सुबह करीब भोर प्रहरअचानक मकान गिर गया। घटना के समय पूरा परिवार मकान में ही सो रहा था। मकान गिरने की आवाज सुनी तो मौके पर ग्रामीण एकत्रित हो गए और मकान के मलबे में दबे लोगों केा बहार निकालने लगे। ग्रामीणों की मदद से मलबे से बाहर निकालकर लोगों को पुन्हाना के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में दाखिल कराया । अस्पताल के डाक्टरों ने जाहिद पुत्र हासम (22) व शाहिबा पुत्री हासम (06) को मृत घोषित कर दिया और अन्य चार की हालत को देखते हुए उन्हें नल्हड के मेडिकल कॉलेज के लिए रैफर कर दिया। घायलों में तीन बच्चे है जिनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

Edited By: Mangal Yadav