नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। देश में पहली बार मिशन दिल्ली के तहत हार्टअटैक पीड़ित मरीज का उसके घर पर सफलतापूर्वक इलाज किया गया। एम्स के आपातकालीन विभाग के प्रमुख डॉ. प्रवीण अग्रवाल के नेतृत्व में मिशन दिल्ली की टीम ने क्लॉट बस्टर ड्रग का उपयोग करते हुए एक 52 साल के हार्टअटैक के मरीज का उसके घर पर इलाज किया।

एम्स में मिशन दिल्ली के आपातकालीन कक्ष में सीआरपीएफ कैंप, आरके पुरम से सुबह 10:40 बजे एक आपातकालीन कॉल आई। इसके तुरंत बाद, बाइक एम्बुलेंस पर हाईटेक गैजेट्स और जीवन रक्षक दवाओं से लैस डॉक्टरों को मौके पर भेजा गया।

दिल्ली की व्यस्त ट्रैफिक में भी बाइक एंबुलेंस पीड़ित तक दस मिनट में पहुंच गई। इसके बाद ईसीजी को नियंत्रण कक्ष में डॉक्टर और एम्स में वरिष्ठ हृदय रोग विशेषज्ञ के पास भेजा गया था। हार्ट अटैक की पुष्टि होने के बाद घटना स्थल पर मौजूद डॉक्टरों को बीमारी से अवगत कराने के बाद क्लॉट बस्टर थेरेपी के निर्देश दिए गए।

रोगी को तत्काल राहत के लिए क्लॉट बस्टर ड्रग दिया गया और आगे के इलाज के लिए एम्बुलेंस द्वारा एम्स के आपातकालीन कक्ष में स्थानांतरित कर दिया गया। जांच में पता चला कि समय पर इलाज के कारण उनकी जान बच पाई है। यह देश में पहली बार है कि जब क्लॉट बस्टर दवा अस्पताल पहुंचने से पहले रोगी के दरवाजे पर दिल के दौरे के लिए दी गई।

दिल्ली चुनाव से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस