गुरुग्राम [जेएनएन]। दिल्ली में मैक्स अस्पताल के बाद अब गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल पर गाज गिर गई है। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कड़ी कार्रवाई करते हुए अस्पताल की जमीन की लीज रद करने के आदेश दिए हैं। इसके साथ ही विज ने दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन को सीख देते हुए कहा कि अब समय बदल चुका है, प्राइवेट अस्‍पतालों की क्रिमिनल नेग्लिजेंस बर्दास्‍त नहीं की जाएगी। 

गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल द्वारा सरकार से सस्ते दाम पर जमीन लेते समय MOU साइन किया गया था जिसमें ये लिखा गया था कि ये 20 प्रतिशत बेड गरीब लोगों के लिए रखेंगे जो उपलब्‍ध नहीं कराए जा रहे है। स्वास्थ्य मंत्री विज ने कहा कि उन्होंने हरियाणा अर्बन एथॉरिटी को पत्र लिख कर गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल की लीज कैंसल करने के आदेश दे दिए हैं। 

18 लाख का बिल देने के मामले में जांच

अस्पताल के खिलाफ एक बच्ची के इलाज के बाद 18 लाख का बिल देने के मामले में जांच जारी थी। इसकी रिपोर्ट आने के बाद विज ने यह कदम उठाया है। इससे पहले मामले में गुरुग्राम का फोर्टिस अस्पताल दोषी पाया गया था और हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त महानिदेशक डॉ. राजीव वढ़ेरा की अध्यक्षता वाली कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर प्रदेश सरकार अस्पताल के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराएगी।

बच्ची की मौत सामान्य नहीं

अस्पताल का लाइसेंस रद करने की सिफारिश के साथ ही ब्लड बैंक का लाइसेंस रद करने के लिए नोटिस जारी कर दिया गया। सरकार ने इस रिपोर्ट के आधार पर माना है कि बच्ची की मौत सामान्य नहीं, बल्कि हत्या के समान थी।

अस्पताल प्रबंधन को नोटिस

इसके अलावा डेंगू की सूचना सीएमओ को नहीं देने पर भी अस्पताल प्रबंधन को नोटिस थमाया गया है। अस्पताल के खिलाफ केस धारा 304 (लापरवाही से मौत) के तहत दर्ज होगा। लंबे इंतजार के बाद स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव अमित झा ने डॉ. वढ़ेरा की अगुवाई वाली तीन सदस्यीय कमेटी की 50 पेज की रिपोर्ट बुधवार को हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को सौंप दी थी। 

यह भी पढ़ें: 'मैक्स हॉस्पिटल अपराध के लिए अभ्‍यस्‍त, इसलिए करनी पड़ी कार्रवाई"

यह भी पढ़ें: अस्‍तपतालों की चूक से दिल्‍ली में 35 मरीजों की गई जान, विश्व मरीज सुरक्षा दिवस पर विशेष

Posted By: Amit Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस