नई दिल्ली, जेएनएन। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (Delhi Metro Rail Corporation) के अंतर्गत चलने वाली मेट्रो ट्रेनों के तकरीबन 30 लाख से अधिक यात्रियों के लिए बड़ी खुशखबरी है। आने वाले समय में दिल्ली मेट्रो के स्टेशनों के अलावा, चलती मेट्रो ट्रेन में भी यात्रियों को मुफ्त वाई-फाई (WI-FI) की सुविधा देने की योजना पर तेजी से काम हो रहा है। 

एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन व ब्लू लाइन के बाद यलो लाइन के मेट्रो स्टेशनों पर भी यात्रियों को निशुल्क वाईफाई की सुविधा मिलेगी। दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) का कहना है कि दिसंबर तक येलो लाइन के सभी स्टेशनों पर यह सुविधा शुरू हो जाएगी। तब इस कॉरिडोर के स्टेशनों पर यात्री निशुल्क वाईफाई का इस्तेमाल कर सकेंगे। खास बात यह कि आने वाले समय में मेट्रो ट्रेन के अंदर भी यात्रियों को निशुल्क वाईफाई की सुविधा मिलेगी।

मेट्रो ट्रेन के अंदर वाईफाई की सुविधा सबसे पहले एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन से शुरू होगा। अब तक स्टेशनों पर ही वाईफाई की सुविधा उपलब्ध है। इस मेट्रो लाइन के सभी स्टेशनों पर यात्रियों के लिए वाईफाई की सुविधा पहले से उपलब्ध है। इसके बाद अगस्त 2017 में ब्लू लाइन के सभी स्टेशन भी वाईफाई से लैस हो गए थे। इस क्रम में यलो लाइन के स्टेशनों पर भी वाईफाई उपलब्ध कराने के लिए उपकरण लगाने का काम चल रहा है। यह काम दिसंबर तक पूरा हो जाएगा। साथ ही एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन की मेट्रो ट्रेनों के अंदर भी साल के अंत तक यह सुविधा मिलने लगेगी। यात्री जरूरत के मुताबिक उसका इस्तेमाल कर सकेंगे। इसके बाद ब्लू लाइन मेट्रो में भी यह सुविधा की जाएगी।

डीएमआरसी के पब्लिक रिलेशन ऑफिसर अनुज दयाल ने बताया कि इस समय दिल्ली मेट्री की ब्लू लाइन और एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन के स्टेशनों पर वाई-फाई सुविधाएं उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि येलो लाइन के स्टेशनों पर अभी इंस्टॉलेशन का काम चल रहा है और यह काम साल के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है। ऐसे में सबकुछ ठीक रहा तो अगले कुछ महीनों में दिल्ली मेट्रो के लाखों यात्रियों को यह सुविधा मिलनी भी शुरू हो जाएगी।

वहीं, बताया जा रहा है कि मेट्रो की एयरपोर्ट लाइन पर 2019 के अंत तक यानी दिसंबर महीने से ही चलती मेट्रो में वाई-वाई का इस्तेमाल करना भी संभव हो जाएगा। जानकारी के मुताबिक, एयरपोर्ट लाइन की चलती ट्रेन में वाई-फाई इस साल के अंत तक मिल जाएगा। वहीं येलो लाइन (समयपुर बादली- हुड्डा सिटी सेंटर) के सभी स्टेशन पर यह सविधा भी इसी साल मिलेगी।

गौरतलब है कि कई मेट्रो स्टेशन्स पर वाई-फाई की सुविधा 2016 में ही शुरू हो गई थी। हालांकि, तब यह सुविधा सिर्फ एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर उपलब्ध थी। अब इस दिशा में नई योजना के साथ डीएमआरसी 2019 के अंत तक दिल्ली एयरपोर्ट लाइन के इस कॉरिडोर पर ट्रेन के अंदर भी वाई-फाई की सुविधा देने की योजना बना रहा है। 

अनलिमिटेड इंटरनेट कर सकेंगे इस्तेमाल

जो जानकारी सामने आ रही है उसके मुताबिक, इंटरनेट इस्तेमाल करने की लिमिट खत्म हो जाएगी।डीएमआरसी के अधिकारियों की मानें तो वाई-फाई सुविधा में डाउनलोड या सर्फिंग की कोई सीमा (Limit) नहीं होगी। बताया जा रहा है कि हर मेट्रो ट्रेन में 300 एमबीपीएस तक स्पीड दी जाएगी, लेकिन डाउनलोडिंग स्पीड नेटवर्क लोड के हिसाब से तय होगी।

डीएमआरसी के एक अधिकारी ने बताया कि वर्तमान में मेट्रो की दो लाइनों को छोड़कर सभी में फ्री-वाई-फाई की सुविधा होगी। वहीं, मजेंटा (जनकपुरी वेस्ट से बॉटेनिकल गार्डन) और पिंक (मजलिस पार्क-शिव विहार) पर फ्री वाई-फाई की सुविधा नहीं होगी, बाकी सभी लाइन्स पर यात्रियों को यह सुविधा मिलेगी। 

गौरतलब है कि यात्रियों को फिलहाल ब्लू लाइन मेट्रो के 50 स्टेशन पर फ्री वाई-फाई की सुविधा मिल रही है। एक्सप्रेस लाइन के बाद 2017 में ब्लू लाइन (द्वारका-नोएडा सिटी सेंटर/वैशाली) के 50 स्टेशन्स पर वाई-फाई की सुविधा दी गई थी।

यहां पर बता दें कि Delhi Metro Rail Corporation की दिल्ली मेट्रो सेवा सार्वजनिक परिवहन के लिहाज से दिल्ली-एनसीआर के लाखों लोगों के लिए उनकी लाइफलाइन बन गई है। 

कहां-कहां होती है ज्यादा भीड़

  • पश्चिमी दिल्ली में द्वारका मोड़
  • उत्तम नगर ईस्ट
  • उत्तम नगर वेस्ट
  • तिलक नगर
  • राजौरी गार्डन
  • कीर्ति नगर मेट्रो स्टेशन

गौरतलब है कि 25 दिसंबर, 2002 को सिर्फ 8 किलोमीटर से अपना पहला सफर शुरू करने वाली दिल्ली मेट्रो  देश की नंबर वन हो चुकी है तो वर्ष 2022 तक दुनिया की तीसरी सबसे लंबे नेटवर्क वाली मेट्रो रेल हो जाएगी। फिलहाल यह विश्व की चौथी सबसे लंबे नेटवर्क वाली रेल है। 25 दिसंबर 2002 को क्रिसमस के दिन पहली बार दिल्ली मेट्रो ने शाहदरा से तीस हजारी तक रेड लाइन मेट्रो शुरू की थी। यह एक ऐतिहासिक लम्हा था, जिसमें हजारों लोगों ने शिरकत की थी। तब दिल्ली मेट्रो का इस कदर क्रेज था कि लोग बिना मकसद दिल्ली मेट्रो में सफर करते थे, क्योंकि उन्हें इसके सफर का तजुर्बा लेना होता था। मेट्रो का क्रेज अब भी बरकरार है। यह भी कम उपलब्धि नहीं है कि 16 साल पहले कुछ हजार यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने वाली मेट्रो में अब रोजाना तकरीबन 30 लाख लोग सफर करते हैं। इनमें नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गुरुग्राम-फरीबाद के यात्री  भी शामिल हैं।

2022 तक इसके 400 किलोमीटर से अधिक विस्तार होगा मेट्रो का
मेट्रो का विस्तार जिस गति से चल रहा है। ऐसे में जाहिर है दिल्ली मेट्रो शंघाई और बीजिंग के बाद दुनिया के सबसे बड़े मेट्रो नेटवर्क में से एक होगी। उम्मीद की जा रही है कि यह लंदन अंडरग्राउंड को भी ओवरशेड करेगी। 

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों और महत्वपूर्ण स्टोरी को बढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक 

Posted By: JP Yadav