राई (सोनीपत), जागरण संवाददाता। कुंडली थाना क्षेत्र निवासी एक युवती ने नौकरी के बहाने फ्लैट में बुलाकर पांच लोगों पर सामूहिक दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। युवती ने बताया कि आरोपितों ने उसे कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ पिलाया और उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

नौकरी देने के नाम पर फ्लैट बुलाया

कुंडली थाना प्रभारी रविंद्र कुमार ने बताया कि एक सोसायटी में रहने वाली 21 वर्षीय युवती ने पुलिस को बताया कि टिंकू नाम के युवक ने उसे नौकरी देने के बहाने फ्लैट में बुलाया।

कोल्‍ड ड्रिंक में दिया नशीला पदार्थ

वहां पर कोल्ड ड्रिंक में कोई नशीला पदार्थ मिलाकर उसे पिला दिया। इसे पीने के बाद वह बेहोश हो गई। बेहोशी का फायदा उठाकर टिंकू, विनोद, खन्ना और उसके दो साथियों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।

दो शातिर चोर गिरफ्तार

पूर्वी जिले की पुलिस के हत्थे ऐसे दो शातिर वाहन चोर चढ़े हैं, जो चोरी के वाहन खरीदने के साथ ही उन कारों के इंजन और चेसिस नंबर भी निकलवाते थे, जिन्हें इंश्योरेंस कंपनी द्वारा कबाड़ घोषित कर दिया जाता था। इसके लिए आरोपी उसी रंग और मॉडल की कार के नंबर लेते थे, जिस मॉडल और रंग वाली चोरी की कार वो खरीदते थे। इसके बाद भोले-भाले लोगों को अच्छी कीमत पर बेच देते थे। पकड़े गए आरोपितों की पहचान टीपू सुलतान और अंकुर त्यागी के रूप में हुई है। पुलिस ने इनके पास से चोरी की सात गाड़ियां, चार कारों के इंजन और चार सीएनजी सिलेंडर बरामद किए हैं। पुलिस ने इनकी गिरफ्तारी से चोरी के वाहनों के 15 मामले सुलझाने का दावा किया है।

जिला पुलिस उपायुक्त जसमीत सिंह ने बताया कि गत नौ जनवरी को एएसआई प्रेमपाल को गुप्त सूचना मिली थी कि दो शातिर चोर कारों के इंजन व चेसिस नंबर बदलकर चोरी की कारें महंगे दामों पर बेच दिया करते थे। वह दोनों न्यू कोंडली के पास आने वाले हैं, सूचना मिलते ही एक टीम बनाई गई और उस टीम ने मौके पर पहुंचकर जाल बिछाया। सुबह 11 बजे नोएडा की ओर से आने वाली होंडा कार को टीम ने जांच के लिए रोका। जब पुलिस ने कार की जांच की तो वह कार केएन काटजू इलाके से चोरी की गई थी।

पुलिस ने दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। जांच में पुलिस को पता चला है कि अंकुर गाजियाबाद का रहने वाला है, वह एमबीए किए हुए है। कार सर्विस की शॉप चलाता है। वहीं टीपू झांसी का रहने वाला है, वह सातवीं पास है और कार मैकेनिक है। दोनों कम समय में ज्यादा पैसे कमाना चाहते थे। इसी कारण उन्होंने इस तरह कारें बेचनी शुरू की। अंकुर ने टीपू के साथ मिलकर वारदात को अंजाम देना शुरू किया। दोनों ने खुलासा कि वो कैसे चोरी की गाड़ियां खरीदकर उनके इंजन व चेसिस नंबर बदलकर उन्हें अच्छे दामों पर बेच देते थे।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस