नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। आइपी एक्सटेंशन के लोगों के लिए पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर ने आइपैक्स सोसायटी महासंघ को 15 आक्सीजन कंसंट्रेटर दिए हैं। कोरोना संक्रमितों के स्वजन अपनी सोसाइटी के प्रधान, सचिव या महासंघ प्रतिनिधि की लिखित अनुशंसा पर अधिकतम पांच दिनों के लिए आइपैक्स भवन से कंसंट्रेटर प्राप्त कर सकते हैं।

महासंघ पदाधिकारियों ने बताया कि उन्होंने सांसद से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए निवेदन किया था। उनके निवेदन को मानते हुए सांसद ने गौतम गंभीर फाउंडेशन की तरफ से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर दिए हैं।

आइपी एक्सटेंशन की सोसायटियों में रहने वाले जिन लोगों को कंसंट्रेटर की जरूरत है, उन्हें पहले आइपैक्स भवन से आवेदन फार्म लेना होगा। उसे भरकर अपनी सोसायटी के पदाधिकारियों से अनुशंसा प्राप्त करनी होगी।

आइपैक्स सोसायटी महासंघ के प्रधान प्रमोद अग्रवाल, पूर्व प्रधान सुरेश बिंदल, उपाध्यक्ष राजीव गुगलानी, महासचिव मदन मोहन खत्री, इंद्रप्रस्थ अग्रवाल समाज के प्रधान सुशील गोयल, कोषाध्यक्ष सत्येंद्र अग्रवाल ने सांसद का आभार व्यक्त किया है।

गौरतलब है कि ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर का इस्तेमाल सिर्फ कोविड-19 के सीमित मामलों में किया जा सकता है। वह भी जब रोगी ऑक्सीजन के स्तर में गिरावट का अनुभव करता है और उसकी बाहर से ऑक्सीजन लेने की आवश्यकता अधिकतम 5 लीटर प्रति मिनट होती है। ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर पोस्ट-कॉविड जटिलताओं का सामना करने वाले रोगियों के लिए भी बहुत उपयोगी होते हैं जिन्हें ऑक्सीजन थेरेपी की आवश्यकता होती है।

सामान्य भाषा में कहें तो ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर एक सरल उपकरण हैं जो ठीक वही करता हैं जो इसके नाम से व्यक्त होता है। ये उपकरण वायुमंडल से वायु को लेते हैं और उसमें से नाइट्रोजन को छानकर फेंक देते हैं तथा ऑक्सीजन को घना करके बढ़ा देते हैं।

ये ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर शरीर के लिए जरूरी ऑक्सीजन की आपूर्ति में उसी तरह से करते हैं जैसे कि ऑक्सीजन टैंक या सिलेंडर। एक केन्युला (प्रवेशनी), ऑक्सीजन मास्क या नाक में लगाने वाली ट्यूबों के जरिये। अंतर यह है कि, जबकि सिलेंडरों को बार बार भरने (रिफिल) की जरूरत पड़ती है, ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर चौबीसों घंटे सातों दिन काम कर सकते हैं।