नई दिल्ली, जेएनएन। दिल्ली में आखिरकार फ्री वाई फाई योजना को हरी झंडी मिल गई है। यह सुविधा हॉट स्पॉट लगाकर दी जाएगी। इसके तहत पहले चरण में दिल्ली भर में करीब ढाई हजार हॉट स्पॉट लगाए जाएंगे। मुफ्त इंटरनेट सेवा बाजारों, बड़े पार्कों, अस्पतालों, मोहल्ला क्लीनिकों और विश्वविद्यालयों में भी उपलब्ध कराई जाएगी।

ढाई हजार हॉट स्पॉट लगाने का प्रस्ताव
दिल्ली सरकार ने तय किया है कि टेलीकॉम कंपनियां हॉट स्पॉट लगाकर मुफ्त वाई फाई की सुविधा देंगी। सूत्र बताते हैं कि लोक निर्माण विभाग ने ढाई हजार हॉट स्पॉट लगाने का प्रस्ताव भेज दिया है। वित्त वर्ष 2018-19 के बजट में सरकार ने मुफ्त वाई-फाई के लिए 100 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है।

हॉट स्पॉट पर सरकार को सालाना 2.5 लाख से अधिक खर्च 
एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रत्येक हॉट स्पॉट पर दिल्ली सरकार को सालाना 2.5 लाख से अधिक खर्च करना पड़ सकता है। हालाकि टेंडर के बाद ही इस पर खर्च होने वाली धनराशि का सही आकलन हो पाएगा। जिस कंपनी को हॉट स्पॉट लगाने का टेंडर आवंटित होगा, उसे ही रखरखाव की जिम्मेदारी भी दी जाएगी।

फाइबर नेटवर्क
सरकारी कंपनी एमटीएनएल सहित सभी निजी टेलीकॉम कंपनियों ने हॉट स्पॉट पर विस्तृत ब्योरा भी लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) को सौंपा है। पहले चरण में उन इलाकों में फ्री वाई-फाई की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी, जहां टेलीकॉम कंपनियों का फाइबर नेटवर्क पहले से मौजूद है।

टेंडर के बाद 15 दिनों में मुफ्त इंटरनेट सेवा 
इन कंपनियों से फाइबर नेटवर्क वाले इलाकों की सूची भी मांगी गई थी। ऐसे इलाकों में टेंडर के बाद 15 दिनों में मुफ्त इंटरनेट सेवा मुहैया कराई जा सकती है। एक हॉट स्पॉट से एक समय में 200 लोग मुफ्त इंटरनेट सेवा का लाभ उठा सकेंगे।

रोजाना एक जीबी डाटा मुफ्त 
प्रत्येक उपयोगकर्ता को रोजाना एक जीबी डाटा मुफ्त मिलेगा। कंपनियों ने अपने-अपने फाइबर नेटवर्क वाले इलाकों की सूची दी है। ऐसे इलाकों में टेंडर के बाद 15 दिनों में मुफ्त इंटरनेट सेवा मुहैया कराई जा सकती है।