गुरुग्राम [जेएनएन]। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने रविवार को गुरुग्राम में भाजपा के एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस दौरान उनके साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भी मौजूद रहे। प्रणब मुखर्जी और मनोहर लाल खट्टर ने गुरुग्राम के हरचंदपुर और नयागांव में स्मार्ट ग्राम परियोजना के तहत कई प्रोजेक्ट का उद्घाटन किया। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने अपने कार्यकाल के दौरान हरचंदपुर गांव को गोद लिया था। गांव को आदर्श गांव बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं। ग्राम सचिवालय में वाई-फाई से लेकर डिजिटल स्क्रीन तक की सुविधा होगी।

गांव के लोगों रोजगार से जोड़ना है 

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि व्यक्ति अगर लक्ष्य साध ले तो पहाड़ भी बौने लगते हैं। अपने लक्ष्य के लिए सदैव आगे बढ़ने की लालसा हर व्यक्ति के अंदर होनी चाहिए। आज गांव के लोगों रोजगार से जोड़ना है क्योंकि जब गांव के लोग बेहतर करने लगेंगे तो देश भी आगे बढ़ेगा। पूर्व राष्ट्रपति ने यह बातें स्मार्ट विलेज बनाने के लिए गोद लिए गए गांव हरचंदपुर में कार्यक्रम के दौरान कहीं।

कई गणमान्य लोग रहे मौजूद 

पूर्व राष्ट्रपति ने गांव में बने ग्राम सचिवालय का उद्घाटन किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह, प्रदेश के कैबिनेट मंत्री राव नरबीर सिंह विधायक उमेश अग्रवाल, तेजपाल तंवर व बिमला देवी सहित कई गणमान्य लोग मौजूद रहे।

गांव की तस्वीर बदल दी

ग्राम सचिवालय में वाई-फाई से लेकर कई तरह की डिजिटल सेवाएं मौजूद हैं। पूर्व राष्ट्रपति ने गांव की महिलाओं को खोया बनाने वाली मशीन भी वितरित की। वहीं जिन लोगों ने गांव की तस्वीर बदलने में अग्रणी भूमिका निभाई तथा लोगों को रोजगार से जोड़ा उन्हें सम्मानित भी किया। ग्रामीणों ने एक सुर में कहा पूर्व राष्ट्रपति की पहल ने उनके गांव की तस्वीर बदल दी है।

आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल हुए प्रणब मुखर्जी

गौरतलब है कि हाल के दिनों में ये दूसरी बार है जब प्रणब मुखर्जी ने भाजपा या उससे जुड़े किसी संगठन के कार्यक्रम में हिस्सा लिया है। इससे पहले जून महीने में प्रणब मुखर्जी ने नागपुर में आरएसएस मुख्यालय के एक कार्यक्रम में शिरकत की थी। आरएसएस के कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए प्रणब मुखर्जी ने अपने संबोधन में राष्ट्र, राष्ट्रवाद और देशभक्ति पर अपने विचार रखे थे।

हुआ था विवाद 

प्रणब मुखर्जी के आरएसएस कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर काफी विवाद भी हुआ था। उनकी बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने भी नाराजगी जताई थी। कांग्रेस के एक धड़े में भी विरोध के स्वर भी उठे थे। कुछ नेताओं ने मुखर्जी से दौरा रद करने की मांग तक कर डाली थी।  

Posted By: Amit Mishra