नई दिल्ली, एएनआइ। Coronavirus News Update: कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी के बीच दिल्ली में पहली बार रैपिड एंटीजन जांच की तुलना में आरटी-पीसीआर (RT-PCR tests) टेस्ट की संख्या में इजाफा हुआ है। केंद्रीय गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) के मुताबिक, 250 वॉटिलेटर डीआरडीओ अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इसके साथ दिल्ली में घर-घर सर्वे शुरू हुआ है, जिसमें 20 नवंबर तक 3,70,729 लोगों का सर्वे किया जा चुका है। 

आरटीपीसीआर परीक्षण क्षमता को 10,000 तक बढ़ाया
कोरोना वायरस संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए कोरोना की आरटीपीसीआर जांच में वृद्धि करने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए आरटीपीसीआर जांच की क्षमता 10 हजार और बढ़ा दी गई है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) इस कार्य में प्रमुख भूमिका निभा रहा है। राजधानी दिल्ली में प्रतिदिन आरटी-पीसीआर परीक्षण की क्षमता 27,000 सैंपल प्रतिदिन थी। इसे बढ़ाकर अब 37,200 प्रतिदिन कर दिया गया है। वहीं, 15 नवंबर को एकत्र लिए गए 12,055 आरटीपीसीआर सैंपल की तुलना में 19 नवंबर को 30,735 सैंपल एकत्रित किए गए।

बताया जा रहा है कि कोरोवा वायरस के संक्रमितों का तेजी से पता लगाने के लिए इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने शनिवार से ही कुछ राज्यों में आरटी-पीसीआर टेस्टिंग (RT-PCR Testing) की संख्या बढ़ा दी है। गृहमंत्री अमित शाह के आदेश के बाद ICMR ने दिल्ली समेत कई राज्यों में कोरोना टेस्टिंग की संख्या में इजाफा किया है। मिली जानकारी के मुताबिक, दिल्ली में 27 हजार टेस्ट प्रतिदिन कर रहा आईसीएमआर अब हर रोज 37 हजार 200 लोगों की जांच करेगा। 

गौरतलब है कि दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण में बढ़ोतरी के बीच 15 नवंबर को एक अहम बैठक के बाद इस पर लगाम लगाने के लिए कई महत्वपूर्ण एलान किए थे। इसमें आरटी-पीसीआर टेस्ट की क्षमता को भी बढ़ाया जाना और दिल्ली में मोबाइल टेस्टिंग वैन की हालत को सुधारा जाना भी शामिल था।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस