नई दिल्‍ली, संजय सलिल। गणतंत्र दिवस पर राजधानी दिल्ली में ट्रैक्टर परेड निकालने की जिद पर अड़े किसान संगठनों और पुलिस के बीच सहमति आखिर बन गई। अब वे आगामी 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड निकाल सकेंगे। परेड करीब 100 किलोमीटर के दायरे में निकाली जाएगी। यह जहां से चलेगी, वहीं आकर खत्म होगी। इसके लिए पांच रूट सिंघु, टीकरी, गाजीपुर (यूपी गेट), शाहजहां बार्डर और पलवल तय किए गए हैं, जो अलग-अलग होंगे। इस दौरान किसान एक-दूसरे से नहीं मिलेंगे।

कई दिनों से कायम गतिरोध खत्म होने से शनिवार को पुलिस ने राहत की सांस ली। राष्ट्रीय राजमार्ग एक के पास बसे खामपुर गांव के मंत्रम रिसोर्ट में हरियाणा, दिल्ली व उत्तर प्रदेश पुलिस के साथ हुई मीटिंग के बाद किसान नेताओं ने प्रेस वार्ता के दौरान यह घोषणा की। संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य व स्वराज इंडिया पार्टी के संयोजक योगेंद्र यादव ने बताया कि पांचवें दौर की बैठक के बाद परेड को लेकर गतिरोध खत्म हो गया है।

26 जनवरी को किसान पहली बार दिल्ली में परेड निकालेंगे। पुलिस उक्त रूटों पर लगाए गए बैरिकेड हटाएगी। रूटों के बारे में सहमति बन गई है। करीब 80 फीसद रूट तय कर लिए गए हैं, कुछ छोटे रूट पर चर्चा करने के बाद रविवार को परेड के रूट का नक्शा जारी कर दिया जाएगा। हालांकि, दिल्ली पुलिस की तरफ से अभी आधिकारिक रूप से बयान जारी नहीं किया गया है। संभवत: रूटों के बारे में किसान संगठनों से लिखित में पत्र मिलने के बाद पुलिस रविवार को इस मामले में अंतिम निर्णय ले सकती है। दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त जन संपर्क अधिकारी एसीपी अनिल मित्तल ने सिर्फ इतना कहा कि वार्ता अंतिम दौर में है।

परेड की अनुमति मिलने के बाद भी किसानों का अडि़यल रवैया दिखाई दिया। कुछ किसान नेताओं ने कहा कि अगर पुलिस बैरिकेड नहीं हटाती तो हम हटा देंगे। वहीं, एक किसान नेता ने कहा कि परेड की अवधि अभी निर्धारित नहीं की गई है। 24 घंटे से लेकर 72 घंटे तक दिन रात यह परेड जारी रह सकती है।

ट्रैक्टर परेड का संभावित रूट सिंघु बार्डर

सिंघु बार्डर से संजय गांधी ट्रांसपोर्ट, कंझावला, बवाना, औचन्दी बार्डर होते हुए परेड हरियाणा में चली जाएगी। टीकरी बार्डर:- टीकरी बार्डर से ट्रैक्टर परेड नागलोई, नजफगढ़, ढांसा, बादली होते हुए केएमपी पर चली जाएगी।गाजीपुर यूपी गेट :- परेड गाजीपुर यूपी गेट से अप्सरा बार्डर गाजियाबाद होते हुए दुहाई यूपी में चली जाएगी।(दो अन्य रूटों के बारे में अभी फैसला नहीं हो सका था।)

सरकार के प्रस्ताव पर पुन:विचार के लिए किसान संघों की बैठक

11वें दौर की वार्ता में केंद्र के सख्त रुख अपनाने के बाद किसान संगठन भी नरम पड़े हैं। कृषि सुधार कानूनों को निलंबित रखने के सरकार के प्रस्ताव पर  पुन:विचार करने के लिए शनिवार को सिंघु बार्डर पर पंजाब के 32 किसान संगठनों ने बैठक की। आल इंडिया किसान सभा के उपाध्यक्ष (पंजाब) लखबीर सिंह ने कहा, पंजाब के किसान संघों की बैठक चल रही है। बाद में, संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक होगी। सूत्रों के मुताबिक बैठक में सरकार के प्रस्ताव पर पुन: विचार-विमर्श किया गया। दरअसल, सरकार ने एक दिन पहले किसान नेताओं से कहा था कि कृषि कानूनों को 18 महीने के लिए निलंबित रखने के उसके प्रस्ताव पर सहमत होने की स्थिति में वे शनिवार तक जवाब दें।

ट्रैक्टरों की संख्या बढ़ी, 10 से 12 किमी तक पहुंचा काफिला

कुंडली बार्डर और टीकरी बार्डर पर किसानों का पड़ाव सात किलोमीटर से बढ़कर अब 10 से 12 किलोमीटर हो गया है। ट्रैक्टर परेड में शामिल होने के लिए शनिवार को एक हजार से भी अधिक ट्रैक्टर कुंडली बार्डर के पास पहुंचे। इससे ट्रैक्टरों का काफिला केएमपी-केजीपी के जीरो प्वाइंट को पार करते हुए राजीव गांधी एजुकेशन सिटी तक पहुंच गया है। उधर, टीकरी बार्डर पर भी शनिवार को सात सौ के लगभग ट्रैक्टर पहुंचे। किसानों ने केएमपी पर ट्रैक्टर परेड को लेकर रिहर्सल भी की। ट्रैक्टरों की कतार के कारण केजीपी-केएमपी के जीरो प्वाइंट पर जाम की स्थिति बनी रही, जिससे दोनों एक्सप्रेस-वे से होकर आने वाले वाहनों को पानीपत-अंबाला की ओर जाने में परेशानी उठानी पड़ी।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप