फरीदाबाद/बल्लभगढ़, जेएनएन। ईमानदारी अभी जिंदा है, इसे हरियाणा रोडवेज के कंडक्टर संदीप मिश्रा ने चरितार्थ किया है। उन्‍होंने किसी यात्री के बस में छूटे एक लाख, 66 हजार रुपये सहित जरूरी कागज से भरे बैग को लौटा दिया है। उनकी ईमानदारी की चर्चा हर तरफ हो रही है। 

रोडवेज प्रशासन का धन्यवाद
यात्री ने इस मामले में कंडक्टर की ईमानदारी के लिए हरियाणा रोडवेज प्रशासन का धन्यवाद किया है। बल्लभगढ़ की मुकेश कॉलोनी के रहनेवाले संदीप मिश्रा इन दिनों पलवल डिपो में कंडक्टर है। वह काफी समय से पलवल से अलीगढ़ वाले रूट पर चलते हैं।

अलीगढ़ के लिए रवाना हुई बस
बृहस्पतिवार को सुबह करीब साढ़े आठ बजे रोडवेज की बस पलवल से अलीगढ़ के लिए रवाना हुई, जिसमें संदीप कंडक्टर के रूप में मौजूद थे। बस जब अलीगढ़ पहुंची तो संदीप ने बस की एक सीट पर बैग रखा देखा, जो क‍िसी सवारी से छूट गया था। कंडक्टर संदीप ने बैग खोलकर देखा तो उसमें एक एटीएम कार्ड, रिहायशी प्रमाण पत्र, आधार कार्ड व रुपये के बंडल रखे थे।

बैग में मिली पर्ची 
बैग में एक मोबाइल नंबर लिखी पर्ची भी थी। तभी संदीप ने पर्ची पर लिखे मोबाइल पर फोन किया, दूसरी ओर मनीष चौधरी ने फोन उठाया। उन्होंने बताया कि वह बैग उनका है। मनीष ने बताया कि वह टप्पल से अलीगढ़ जा रहे थे इसी दौरान बैग गलती से बस में छूट गया था। वह गांव लालपुर टप्पल जिला अलीगढ़ के निवासी हैं।

लौटा दिया बैग
मनीष सूचना के आधार पर अलीगढ़ बस अड्डे पर पहुंचे और अपनी पहचान बताई। इसके बाद दो-तीन रोडवेज कर्मचारियों की गवाही के बाद उन्हें बैग सही सलामत लौटा दिया गया। मनीष चौधरी ने बताया कि कंडक्टर ने बैग को पूरी ईमानदारी से वापस किया है, जिसके लिए वह और उसका पूरा विभाग धन्यवाद का पात्र है।