नई दिल्ली [वीके शुक्ला]। आइआइटी कानपुर अब दिल्ली में वायु प्रदूषण के वास्तविक कारणों का अध्ययन कर पता लगाएगी।दिल्ली सरकार और आइआइटी कानपुर के बीच वायु प्रदूषण का रियल टाइम सोर्स का पता लगाने के लिए होने वाले अध्ययन के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर हो गए हैं। आइआइटी कानपुर 23 महीने में अध्ययन पूरा कर दिल्ली सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। इस करार के अनुसार दिल्ली में सुपर साइट स्थापित की जाएगी। इससे जुड़े अलग-अलग हिस्सों में मोबाइल वैन के जरिए एक्यूआई का अध्ययन किया जाएगा।

पर्वावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा है कि भारत में पहली बार दिल्ली के अंदर तकनीक के माध्यम से वायु प्रदूषण के वास्तविक कारणों का पता लगाने के लिए अध्ययन होने जा रहा है। दिल्ली सरकार इस तरह की आधुनिक तकनीक से आधारित समाधान को लागू करने वाली पूरे देश में पहली राज्य सरकार है।

एमओयू के लिए पर्यावरण मंत्री राय की उपस्थिति में शुक्रवार को आइआइटी कानपुर की अनुसंधान और विकास विंग के डीन प्रो. एआर हरीश और दिल्ली सरकार की ओर से दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) के सदस्य सचिव डा केएस जयचंद्रन ने हस्ताक्षर किए हैं।

पटाखों की खरीद-बिक्री पर लोग ग्रीन दिल्ली एप पर करें शिकायत

पर्यावरण मंत्री ने कहा कि दिल्ली के अंदर पटाखों पर पूरी तरह से प्रतिबंध है। इसके बाद भी कई जगह अवैध तरीके से पटाखे स्टोर किए जाने या बिक्री किए जाने की बात सामने आ रही है। पर्यावरण मंत्री ने दिल्ली के लोगों से अपील की है कि वे ऐसे लोगों की शिकायत ग्रीन दिल्ली एप पर करें, ताकि उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सके।

जनभागीदारी से होगा प्रदूषण पर वार

वहीं, दिल्ली में जनभागीदारी से प्रदूषण के खिलाफ जंग लड़ी जाएगी। इसके लिए दिल्ली सरकार ने राज्य के सभी एसडीएम को आरडब्ल्यूए और क्षेत्र के प्रभावशाली लोगों के साथ बैठक कर जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही पटाखों पर लगे प्रतिबंध का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए भी कहा है।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि सभी 33 एसडीएम आरडब्ल्यूए, मार्केट एसोसिएशन सहित प्रभावशाली लोगों के साथ 28 और 29 अक्टूबर को बैठक करेंगे।

इसमें इन लोगों को बताएंगे कि प्रदूषण कम करने में ये लोग किस तरह मददगार साबित हो सकते हैं। इसके बाद सभी आरडब्ल्यूए 31 अक्टूबर को अपनी सोसायटी में बैठक कर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की तरफ से की गई तीन अपील के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे। एसडीएम पूरी दिल्ली में एंटी क्रैकर्स (पटाखा विरोधी) अभियान चलाएंगे। इसके तहत पुलिस के साथ एसडीएम भी मौके पर जाकर कार्रवाई करेंगे। अभियान के दौरान लोगों को परेशान नहीं करने के लिए कहा गया है, लेकिन पटाखों की बिक्री करने वालों की दुकान सील की जाएगी। 

Edited By: Mangal Yadav