नई दिल्ली[संजीव गुप्ता]। मतदाता सूचियों से नाम काट जाने के मुददे पर आपस में उलझ तो भाजपा व आम आदमी पार्टी रही हैं, लेकिन इसी बिसात पर चेकमेट प्लान कांग्रेस ने बना लिया है। प्लान ही नहीं बनाया, बल्कि बिना शोर मचाए, उस पर काम भी शुरू कर दिया है। पार्टी का लक्ष्य पखवाड़े के भीतर इसे खत्म कर देना है। पार्टी की ओर से सभी जिला, ब्लॉक एवं बूथ अध्यक्षों को उनके इलाके की मतदाता सूची सौंपकर घर घर जाने का निर्देश जारी किया गया है।

कांग्रेस की टीम कर रही मेहनत
कांग्रेस की टीम हर घर तक जाकर यह चेक करेगी कि मतदाता सूची में उस घर के तमाम नाम पूरे हैं या नहीं। जो नाम कटे हैं, वे क्यों कटे हैं? सभी पदाधिकारियों को हफ्ते भर में रिपोर्ट भी देने को कहा गया है।

आप और भाजपा की लड़ाई में कांग्रेस को फायदा
पार्टी के वरिष्ठ नेता बताते हैं कि इस चेकमेट प्लान से जहां आप एवं भाजपा के बीच चल रहे विवाद का सच सामने आ जाएगा, वहीं जहां कहीं कुछ गलत हुआ होगा, उसे ठीक भी करा दिया जाएगा। पार्टी पदाधिकारियों, ब्लॉक और बूथ कार्यकर्ताओं को यह निर्देश भी स्पष्ट तौर पर दिया गया है कि कोई गलत नाम कटा पाया जाए तो उसे निर्वाचन कार्यालय के बूथ लेवल अफसर के यहां अविलंब दुरुस्त करा दिया जाए।

दोनों पार्टियों पर आरोप
नेता ने बताया कि आप और भाजपा दोनों ही जनता को गुमराह करने में लगी हैं। मतदाता सूची से नाम काटे जाने की पूरी प्रक्रिया होती है, ऐसे ही किसी का भी नाम नहीं कट सकता। एक साथ लाखों मतदाताओं का नाम काट देना तो संभव ही नहीं।

आप और भाजपा के विवाद में मतदाता भी उलझ कर रह गए हैं, जबकि उनकी उलझन दूर कोई नहीं कर रहा। लेकिन, कांग्रेस अपने लोकप्रिय नारे .कांग्रेस का हाथ, आम आदमी के साथ. पर चलते हुए मतदाताओं की यह उलझन जल्द दूर करेगी।