नई दिल्ली [शुजाउद्दीन]। भजनपुरा इलाके में दाे चचेरे भाइयों ने फिल्मी अंदाज में नकली पुलिसकर्मी बनकर एक टेंपाे चालक को लूट लिया। हालांकि टेंपो चालक के पास से उन्हें गाड़ी के कागज के अलावा पांच सौ रुपये ही मिले। डाक्टरी की पढ़ाई कर रहे युवक ने दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक कर रहे भाई के साथ मिलकर अपनी स्कोर्पियो में पुलिस का सायरन लगाकर वारदात को अंजाम दिया। आरोपित टेंपाे चालक के एक सहयोगी को अपनी कार में बैठाकर भजनपुरा थाने ले जाने लगे। रास्ते में पुलिस की पीसीआर वैन मिल गई। दोनों के चेहरों की रंगत उड़ गई। आनन फानन युवक को कार से उतारा और फरार हो गए। लूटपाट के कुछ देर के बाद पुलिस ने कार समेत दोनों आरोपितों को दबोच लिया। आरोपितों की पहचान उस्मानपुर निवासी पीयूष कुमार व यमुना विहार निवासी हरिओम सागर के रूप में हुई है। पुलिस ने इनके पास से सायरन वाली कार, एक पिस्टल, तीन कारतूस व टेंपो चालक से लूटा गया सामान बरामद किया है।

जिला पुलिस उपायुक्त संजय कुमार सेन ने बताया कि रविवार रात 11:45 एक टेंपो चालक हरेराम पासवान ने पुलिस को काल करके लूटपाट की सूचना दी थी। पीड़ित ने पुलिस को बताया कि काले रंग की स्कोर्पियो सवार दो युवकों ने पुलिसकर्मी बनकर उन्हें लूटा है। वारदात के वक्त वह अपने दो सहयोगियों के साथ मिलकर ब्रजपुरी से माल लेकर सीलमपुर जा रहे थे। रात 11:30 बजे गोकुलपुरी फ्लाईओवर के पास पहुंचने पर एक स्कार्पियो ने ओवरटेक करके उनके टेंपो को रोक लिया। कार में पुलिस का सायरन बज रहा था।

आरोपितों ने खुद को पुलिसकर्मी बताकर टेंपो चालक को पांच से छह थप्पड़ मार दिए। आरोपितों ने पीड़ित से टेंपो के कागजात, आधार कार्ड व पांच सौ रुपये लूट लिए। उन्होंने टेंपो से एक युवक को उतारा और जबरन कार में अपनी कार में बैठा लिया और भजनपुरा थाने जाने लगे। कुछ दूर चलते ही रास्ते में पीसीआर वैन मिल गई। पकड़े जाने के डर से आरोपितों ने युवक को नीचे उतारा और फरार हो गए। पूछताछ में पुलिस को आरोपितों ने बताया कि वह पुलिस से काफी प्रभावित हैं, इसलिए उन्होंने कार में पुलिस का सायरन भी लगवाया हुआ है।

Edited By: Jp Yadav