नई दिल्ली, जेएनएन।  Metrolight train will run in Delhi: राजधानी दिल्ली में दो मेट्रोलाइट कॉरिडोर बनाने की तैयारी चल रही है। इसके लिए केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय ने दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) को निर्देश जारी किया है। इसके तहत कीर्ति नगर से द्वारका सेक्टर 25 और रिठाला से नरेला के बीच मेट्रोलाइट कॉरिडोर बनाने का प्रस्ताव है। मेट्रो बोर्ड ने कीर्ति नगर-द्वारका सेक्टर 25 मेट्रोलाइट कॉरिडोर की योजना को प्रशासनिक मंजूरी दे दी है। इसलिए डीएमआरसी प्रस्तावित कॉरिडोर का डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) तैयार करने में जुट गया है।

यदि यह योजना परवान चढ़ी तो दिल्ली में मेट्रोलाइट ट्रेनें भी रफ्तार भरती नजर आएंगी। यह भी मेट्रो की तरह ही होती हैं, लेकिन इसमें सिर्फ तीन कोच होते हैं। इसलिए एक बार में करीब 300 लोग इसमें सफर कर सकते हैं। खास बात यह कि मेट्रो की तुलना में मेट्रोलाइट के निर्माण में करीब 30 फीसद खर्च कम आता है। यही वजह है कि केंद्रीय शहरी विकास मंत्रलय ने मेट्रोलाइट कॉरिडोर बनाने का निर्देश डीएमआरसी को दिया है।

कीर्ति नगर-द्वारका कॉरिडोर की लंबाई होगी 19 किलोमीटर

कीर्ति नगर-द्वारका सेक्टर 25 मेट्रोलाइट कॉरिडोर की लंबाई 19 किलोमीटर होगी। यह दिल्ली मेट्रो के तीन कॉरिडोर से जुड़ा होगा। क्योंकि इस मेट्रोलाइट कॉरिडोर का कीर्ति नगर स्टेशन ब्लू लाइन (द्वारका सेक्टर 21-नोएडा इलेक्ट्रॉनिक सिटी/वैशाली) व ग्रीन लाइन (कीर्ति नगर-इंद्रलोक-बहादुरगढ़) के साथ इंटरचेंज स्टेशन होगा। साथ ही एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन का विस्तार द्वारका सेक्टर 25 तक हो रहा है। क्योंकि द्वारका सेक्टर 25 में अंतरराष्ट्रीय स्तर का कन्वेंशन सेंटर बन रहा है।

इसलिए कीर्ति नगर से द्वारका सेक्टर 25 के बीच यह मेट्रोलाइट ट्रेन फीडर सेवा के रूप में काम करेंगी। वहीं रिठाला से नरेला के बीच 21.7 किलोमीटर का कॉरिडोर प्रस्तावित है। इन दोनों रूट पर मेट्रोलाइट कॉरिडोर के निर्माण के लिए डीपीआर तैयार होने के बाद डीएमआरसी उसे मंजूरी के लिए दिल्ली सरकार के पास भेजेगा। इसके बाद केंद्र सरकार से उसकी मंजूरी लेनी होगी। क्योंकि इसके निर्माण में केंद्र व दिल्ली सरकार को 50-50 फीसद खर्च उठाने होंगे।

फेज चार की परियोजना का हिस्सा है रिठाला-नरेला कॉरिडोर

फेज चार में छह मेट्रो कॉरिडोर का निर्माण प्रस्तावित है। जिसमें से तीन कॉरिडोर को मंजूरी मिल चुकी है। उसके निर्माण के लिए टेंडर प्रक्रिया भी डीएमआरसी शुरू कर चुका है। अन्य तीन कॉरिडोर को केंद्र सरकार से मंजूरी मिलना शेष है। जिसमें रिठाला-नरेला कॉरिडोर भी शामिल है। इस तरह यह कॉरिडोर फेज चार की मेट्रो परियोजनाओं का हिस्सा है। अब इस रूट पर मेट्रोलाइट कॉरिडोर के निर्माण का केंद्र से निर्देश मिलने के बाद डीएमआरसी को डीपीआर में बदलाव करना पड़ेगा।

ये भी पढ़ेंः Delhi Police की पीसीआर वैन में महिला ने दिया बच्चे को जन्म

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप