नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन को भड़काने के लिए तैयार टूलकिट के मामले में गिरफ्तार दिशा रवि की जमानत याचिका पर मंगलवार को सुनवाई होगी। शनिवार को हुई सुनवाई के दौरान दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद दिशा को जमानत देने पर फैसला सुरक्षित रख लिया था। मंगलवार को कोर्ट ने दिशा रवि को जमानत देने को लेकर अपनाी फैसला देगा। बता दें कि दिशा को 13 फरवरी को बेंगलुरू से गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में दिल्ली पुलिस की साइबर सेल निकिता जैकब और शांतनु मुलुक से भी पूछताछ कर रही है।

गौरतलब है कि कृषि कानून विरोधी आंदोलन के बहाने भारत को दुनियाभर में बदनाम करने के लिए बनाई गई टूलकिट मामले में साइबर सेल ने सोमवार को निकिता जैकब, शांतनु मुलुक और दिशा रवि से कई घंटे तक पूछताछ की। पहले तीनों से अलग-अलग फिर उनको एक साथ बिठाकर पूछताछ की गई। मंगलवार को भी निकिता और शांतनु से पूछताछ की जाएगी।

बता दें कि निकिता जैकब भी जलवायु कार्यकर्ता है और पेशे से अधिवक्ता भी है, वहीं शांतनु इंजीनियर है। दिशा रवि को बीते 13 फरवरी को बेंगलुरु स्थित घर से गिरफ्तार करते ही मुंबई की रहने वाली निकिता जैकब और बीड, महाराष्ट्र निवासी शांतनु मुलुक अपने-अपने घरों से फरार हो गए थे। अगले ही दिन निकिता ने मुंबई हाईकोर्ट और शांतनु ने औरंगाबाद हाईकोर्ट में अर्जी दायर कर अग्रिम जमानत मांगी थी। कोर्ट ने दोनों को जांच में सहयोग के लिए कुछ दिनों की मोहलत देते हुए उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है।

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने जांच के दौरान इसमें विदेशियों की भी भूूमिका का खुलासा किया है। खासकर इसमें खालिस्तान समर्थकों की भूमिका साफतौर पर सामने आ रही है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021