नई दिल्ली (जेएनएन)। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व दिल्ली सरकार के मंत्री भले ही स्वास्थ्य के क्षेत्र में सुधार का दम भर रहे हों, लेकिन हकीकत इसके विपरीत है। सुधार किस तरह का हुआ है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जो बीमार हैं उन्हें इलाज नहीं मिल पा रहा है और जो ठीक हैं उन्हें जबरन बीमार बनाया जा रहा है। ऐसा ही एक उदाहरण कर्मपुरा में रहने वाली बुजुर्ग महिला दर्शना बाला का है। उनके पैर पर डेढ़ माह के लिए जबरन प्लास्टर चढ़ाकर उन्हें बिस्तर पर डाल दिया है।

बकौल दर्शना बाला मेरे पैर में हल्की सी चोट लगी तो 14 अगस्त को मैं मोतीनगर स्थित आचार्य भिक्षु अस्पताल गई। वहां एक्सरे हुआ तो डाक्टर ने 15 दिन के लिए कच्चा प्लास्टर चढ़ाने के लिए कहा। उनके अनुसार मैंने प्लास्टर भी चढ़वा लिया, दवाइयां भी समय से ली। इस दौरान मुझे पूरी तरह से आराम हो गया तो 5 सितंबर को मैं उस प्लास्टर को हटवाने के लिए अस्पताल गई तो वहां क्षेत्र के विधायक शिव चरण गोयल भी मिले। वे इस अस्पताल में बैठते भी हैं। वे मुझे पहचानते थे तो उन्होंने डॉक्टर को बुलाकर मेरी सिफारिश कर दी। बस उसी सिफारिश से डाक्टर चिढ़ गए और फिर मेरे मना करने के बावजूद डाक्टर ने डेढ़ माह के लिए पक्का प्लास्टर चढ़ा दिया।

मैं लगातार बताती रही कि मैं पूरी तरह से ठीक हूं। मुझे चलने-फिरने में कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन डॉक्टर नहीं माने और बिना किसी जांच पड़ताल के केवल चिढ़ की वजह से प्लास्टर चढ़ा दिया। दर्शना बाला का आरोप है कि डॉक्टर लगातार बोल रहा था कि नेता अंगूठा छाप होते हैं। ऐसे लोगों से सिफारिश करवाओगे तो पछताओगे।

दर्शना का कहना है कि मैं अस्पताल से तो वापस आ गई, लेकिन कुछ परिचितों की सलाह पर मैंने छह सितंबर को पूसा रोड स्थित एक निजी डाक्टर से जांच करवाई, एक्स-रे भी हुआ तो उन्होंने अपनी रिपोर्ट में स्पष्ट लिखा है कि पैर पूरी तरह से सही है।

दर्शना का कहना है कि अस्पतालों में सुधार का दम भरने वाली दिल्ली सरकार को इस तरफ भी देखना चाहिए कि किसी तरह से ठीक लोगों को भी बीमार बनाने का काम अस्पतालों में किया जा रहा है। उनका कहना है कि अगर डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो इस मामले को उच्च स्तर पर ले जाएंगी।

इस मामले में अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डा.भास्कर वर्मा से बात की तो उन्होंने अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि पहले कच्चा प्लास्टर चढ़ाया जाता है और फिर कोई दिक्कत रहने पर पक्का प्लास्टर किया जाता है, मगर फिर भी वह मरीज के कागजात व रिपोर्ट देखने के बाद ही कुछ कह पाएंगे कि हकीकत क्या है।

खराब ग्लब्स व टूटी सीरिंज मामले में जांच के आदेश

दिल्ली गेट स्थित जीबी पंत अस्पताल में खराब सर्जिकल ग्लब्स और टूटी सीरिंज की सप्लाई मामले में मुख्यमंत्री अर¨वद केजरीवाल ने जांच के आदेश दिए हैं। मंगलवार को मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन को पत्र लिखकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा। उन्होंने मामले की गंभीरता से जांच कर 10 दिनों के अंदर रिपोर्ट मांगी है। 

Posted By: JP Yadav