नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। दीवाली पर दिल्ली में पटाखे अगर बिल्कुल न जलें, तब भी बृहस्पतिवार को एनसीआर की हवा दमघोंटू ही रहेगी। शुक्रवार को गोवर्धन पूजा और शनिवार को भैया दूज पर यह और खराब होकर गंभीर श्रेणी में पहुंच जाए तो भी हैरानी नहीं। जिस तेजी से पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने के मामले बढ़ रहे हैं, साथ ही मौसमी परिस्थितियां बदल रही हैं, वह दिल्ली-एनसीआर की आबोहवा के पूरी तरह प्रतिकूल है।

दिल्ली-एनसीआर रेड जोन में

बुधवार को लगातार दूसरे दिन दिल्ली-एनसीआर रेड जोन में रहा। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा जारी एयर क्वालिटी बुलेटिन के अनुसार दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) 314 दर्ज किया गया। मंगलवार को यह 303 और सोमवार को 281 था। फरीदाबाद का 337, गुरुग्राम का 330, गाजियाबाद का 353, नोएडा का 327 और ग्रेटर नोएडा का 286 दर्ज किया गया।

15.9 डिग्री रहा दिल्ली का न्यूनतम तापमान

बुधवार को दिल्ली में आसमान साफ रहा और दिनभर धूप खिली रही। अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 29.9 डिग्री सेल्सियस, जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 15.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा में नमी का स्तर 45 से 90 फीसद रहा। मौसम विभाग के अनुसार बृहस्पतिवार को आसमान साफ रहेगा। सुबह में धुंध होगी। अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश: 29 और 15 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।

मौसम विभाग की चेतावनी

मौसम विभाग ने कहा है कि अगले तीन दिनों के दौरान उत्तर-पश्चिमी हवा, पराली और पटाखे जलने के कारण दिल्ली-एनसीआर की हवा बहुत खराब श्रेणी में रहने वाली है। इस दौरान न्यूनतम तापमान चूंकि 13 से 15 डिग्री सेल्सियस रहेगा। कम तापमान में भी प्रदूषण गहराता है। हालांकि वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग ने फिलहाल दिल्ली-एनसीआर के आसमान पर छाए धुंधलके को स्माग नहीं, फाग बताया है।

Edited By: Prateek Kumar