नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। पहाड़ों पर हुई बर्फबारी के चलते एक बार फिर दिल्ली के मौसम में थोड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है। हवा में ठंडक के चलते दिन में जहां गर्मी का अहसास कम हुआ। वहीं, सुबह-शाम गुलाबी ठंड भी महसूस की गई। हालांकि, हवा की रफ्तार बढ़ने से आया यह बदलाव एक दो दिनों के लिए ही है। इसके बाद दोबारा पारा चढ़ना शुरू हो जाएगा। बुधवार सुबह दिल्ली-एनसीआर के लोगों को सर्दी महसूस हुई। हवा चलने से लोगों ने हल्की ठंड महसूस की। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक,  इन दिनों पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। इससे पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी हो रही है। इससे मैदानी इलाकों में ठंडी हवा आ रही है। इस वजह से इसे विदाई ले रही सर्दी का आखिरी रंग भी माना जा रहा है।

हालांकि, कमजोर पश्चिमी विक्षोभ के कारण यह राहत लंबे समय तक नहीं रहेगी। एक दिन पहले ही मौसम विभाग ने मार्च से लेकर मई तक अच्छी खासी गर्मी पड़ने की चेतावनी जारी की है। इस माह के अंत तक तापमान 37 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने के आसार हैं। वहीं, औसत तापमान भी सामान्य से अधिक रहने का अनुमान है।

वहीं, मौसम विभाग के अनुसार मंगलवार को दिल्ली का अधिकतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 28.8 डिग्री सेल्सियस, जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 15.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। हवा में नमी का स्तर 44 से 88 फीसद रहा। वहीं, दिल्ली का स्पोट्र्स कांप्लेक्स इलाका 30.4 डिग्री सेल्सियस के साथ सबसे गर्म रहा। 

मध्यम श्रेणी में चल रही दिल्ली-एनसीआर की हवा

मौसम में हुए बदलाव से दिल्ली-एनसीआर की हवा भी मध्यम श्रेणी में चल रही है। अभी अगले कई दिन हवा की गुणवत्ता में यह सुधार जारी रहेगा। इसके बाद इसमें थोड़ी वृद्धि होने की संभावना है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा जारी एयर क्वालिटी बुलेटिन के अनुसार मंगलवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 175 दर्ज हुआ। वहीं, फरीदाबाद, नोएडा व गुरुग्राम की हवा भी इसी श्रेणी में रही। हालांकि, गाजियाबाद और ग्रेटर नोएडा की हवा खराब श्रेणी में बनी रही। सफर के मुताबिक, इन दिनों हवा की रफ्तार तेज होने से इसका असर वायु गुणवत्ता पर पड़ा है। 24 घंटों में पीएम 10 का स्तर 169 व पीएम 2.5 का स्तर 65 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज किया गया।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021