नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। Delhi Weather Forecast:  कोरोना संक्रमण के अभूतपूर्व वैश्विक संकट के बीच इस बार गर्मी के मौसम ने भी कई रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। पहली बार ऐसा हुआ है कि सीजन के तीनों माह में बारिश जहां सामान्य से अधिक हुई, वहीं तापमान औसत से कम रहा। मौसम विज्ञानी इसे सीधे तौर पर जलवायु परिवर्तन से जोड़कर देख रहे हैं। संभावना जताई जा रही है कि जून में प्री मानसून की बारिश भी अच्छी होगी और मानसून में भी इस बार आंकड़ा सामान्य से बेहतर रहना चाहिए। गर्मियों का मौसम मुख्य तौर पर मार्च से जून तक माना जाता है। इसके बाद जुलाई से सितंबर तक मानसून का सीजन कहा जाता है।

पिछले सालों पर गौर करें तो मार्च से ही तापमान 35 डिग्री पार होने लगता है। अप्रैल से लू का दौर भी शुरू होने लगता है। वहीं, इस साल गर्मी की चुभन जहां गिने चुने दिन ही महसूस हुई वहीं लू भी गिनती के दिन ही चली। गर्मी के तीनों महीने खासी राहत भरे रहे। जून का पहला सप्ताह भी सुकून भरा बताया जा रहा है, जबकि तीसरे सप्ताह से प्री मानसून की बारिश शुरू होने का पूर्वानुमान है, यानी यह माह भी पिछले सालों के बनिस्पत थोड़ी राहत भरा हो सकता है।

मार्च में हुई थी 109.6 एमएम बारिश

मार्च में बारिश का सामान्य स्तर 15.9 मिलीमीटर है, जबकि इस बार यह 109.6 मिलीमीटर (मिमी) हुई। 1901 से लेकर अभी तक की यह सबसे ज्यादा बारिश है। माह का सामान्य अधिकतम तापमान 29.6 डिग्री सेल्सियस है, जबकि इस माह का औसत अधिकतम तापमान 1.4 डिग्री कम 28.2 डिग्री सेल्सियस रहा। इसी तरह सामान्य न्यूनतम तापमान 15.6 डिग्री सेल्सियस है, जबकि इस बार यह 0.6 डिग्री कम 15.0 डिग्री सेल्सियस रहा। अप्रैल में 13 फीसद अधिक बरसे बादलअप्रैल में होने वाली औसत बारिश 12.2 मिमी है, जबकि इस बार 13 फीसद अधिक यानि 13.8 मिमी हुई। माह का सामान्य अधिकतम तापमान 36.3 डिग्री सेल्सियस है, लेकिन इस बार यह भी 35.4 डिग्री सेल्सियस यानि लगभग एक डिग्री कम दर्ज हुआ।

महेश पलावत, मुख्य मौसम विज्ञानी, स्काईमेट वेदर (Mahesh Palawat, Chief Meteorologist, Skymet Weather) के मुताबिक, गर्मियों के तीनों महीनों के ठंडा रहने की मुख्य वजह जलवायु परिवर्तन लग रही है। पश्चिमी विक्षोभों की अधिकता भी इस वर्ष ज्यादा रही है। संभावना है कि जून में भी गर्मी इस वर्ष कम सताएगी। 

मई के मौसम पर एक नजर

मई में होने वाली औसत बारिश का आंकड़ा 19.7 मिमी है, लेकिन इस बार 7 फीसद अधिक 21.1 मिमी हुई। माह का औसत अधिकतम तापमान सामान्य स्तर पर 39.5 डिग्री सेल्सियस रहा, जबकि न्यूनतम तापमान माह के औसत 25.8 डिग्री सेल्सियस की तुलना में 1.5 डिग्री कम 24.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस