नई दिल्ली, एएनआइ। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आइबी कांस्टेबल अंकित शर्मा के परिजनों को एक करोड़ मुआवजा देने का एलान किया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार हिंसा में मारे गए अंकित शर्मा के नजदीकी एक परिजन को सरकार नौकरी भी देगी।

सोमवार को सीएम केजरीवाल ने कहा कि उनकी सरकार आइबी कांस्टेबल अंकित शर्मा के परिजनों को आर्थिक मदद देने का फैसला किया है। 

बता दें कि बुधवार को चांद बाग में नाले से आइबी के जवान अंकित शर्मा का शव बरामद हुआ था। उनके परिजनों का आरोप है कि आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन समर्थक अंकित को घेरकर पार्षद के घर ले गए थे और हत्या कर दी थी। अंकित के परिजनों ने ताहिर हुसैन के खिलाफ हत्या समेत अन्य धाराओं में मामला दर्ज कराया है।

पिता भी हैं आइबी कर्मी

अंकित शर्मा आइबी में सुरक्षा सहायक थे। अंकित के पिता रविंद्र शर्मा भी आइबी में ही कार्यरत हैं। दिल्ली के खजूरी में मकान बनाकर पत्नी सुधा, दो पुत्रों अंकुर शर्मा व मृतक अंकित शर्मा तथा पुत्री सोनम के साथ रह रहे थे। अंकित शर्मा की आइबी में तीन वर्ष पूर्व ही नौकरी लगी थी।

बेरहमी से की गई थी अंकित की हत्या

आइबी में तैनात कांस्टेबल अंकित शर्मा की हत्या बहुत बेरहमी से की गई थी। गुरुवार को जीटीबी अस्पताल में उनके शव का पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों ने पुलिस को प्राथमिक रिपोर्ट दे दी। इसमें बताया गया है कि अंकित के शरीर पर चाकू के कई घाव हैं। इसके लिए चार से पांच चाकू इस्तेमाल किए गए हैं। आशंका है कि चार से पांच लोगों ने एक साथ हमला किया था। पहचान छिपाने के लिए सिर पर कुछ ज्वलनशील पदार्थ भी डाले गए। इसके साथ उनकी आंतें भी गायब पाई गई हैं।

ताहिर हुसैन के घर से मिला था तबाही का सामान

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर फैली सांप्रदायिक हिंसा के बीच आइबी (इंटेलीजेंस ब्यूरो) के कांस्टेबल अंकित शर्मा की हत्या के आरोपों से घिरे ताहिर हुसैन के घर से गुरुवार को तबाही का सामान बरामद हुआ। ताहिर के घर की छत से पेट्रोल बम, तेजाब के पाउच, गुलेल के साथ काफी संख्या में बोतलें भी मिली हैं। पुलिस ने घर को सील कर दिया।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस