नई दिल्ली [वीके शुक्ला]। दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने बृहस्पतिवार को राजघाट बस डिपो में सीसीटीवी निगरानी कैमरों से लैस बसों तथा नियंत्रण कक्ष का निरीक्षण किया। दिल्ली सरकार ने लगभग 5,500 दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) बसों और क्लस्टर बसों को अपग्रेड करने की घोषणा की थी। परियोजना का उद्देश्य डीटीसी और क्लस्टर योजना की बसों में आइपी आधारित सीसीटीवी निगरानी कैमरे, पैनिक बटन और जीपीएस के माध्यम से यात्रियों, विशेषकर महिला यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। सरकार ने यात्रियों, विशेषकर महिलाओं की सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए सभी बसों में 11,000 से अधिक मार्शल भी तैनात किए हैं। यह परियोजना दिसंबर तक पूरा होने की उम्मीद है।

निरीक्षण के दौरान कैलाश गहलोत ने कहा कि हम बसों में महिला यात्रियों द्वारा सामना किए जाने वाले विभिन्न अपराधों को खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं। मैंने व्यक्तिगत रूप से कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के कामकाज का निरीक्षण किया है और मुझे खुशी है कि अब बसों में छोटा से छोटा अपराध भी पकड़ा जा सकेगा।

आपात परिस्थितियों में अधिकारियों को भेजा जाएगा एसएमएस

सभी डीटीसी और क्लस्टर बसों में तीन कैमरा, जीपीएस डिवाइस, दस पैनिक बटन, ड्राइवर के लिए एक डिस्प्ले, हूटर, स्ट्रोब और दो ऑडियो कम्युनिकेशन डिवाइस (एक ड्राइवर और एक-कंडक्टर के लिए) फिट किया जाएगा। यात्री, ड्राइवर या कंडक्टर किसी भी आपात स्थिति में पैनिक बटन दबा सकते हैं। अलर्ट स्वचालित रूप से वास्तविक समय में कश्मीरी गेट स्थित कमांड एंड कंट्रोल सेंटर को चला जाएगा। कमांड सेंटर में ऑपरेटर अलर्ट को फिल्टर करेगा और विभिन्न अलर्ट परिदृश्यों के लिए परिभाषित स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर (एसओपी) के तहत बस के जीपीएस लोकेशन के साथ त्वरित प्रतिक्रिया के लिए संबंधित एजेंसियों जैसे पुलिस, फायर और एम्बुलेंस को अलर्ट भेज देगा। इसके तहत आपात परिस्थितियों में एसएमएस और ईमेल अलर्ट भी संबंधित अधिकारियों को भेजा जाएगा।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप