नई दिल्ली, एएनआइ। राजधानी दिल्ली में जिनके पास वैध प्रदूषण नियंत्रण (पीयूसी) प्रमाण पत्र नही है उनके खिलाफ दिल्ली परिवहन विभाग ने कार्रवाई शुरू कर दी हैै। दिल्ली परिवहन विभाग की टीमों ने वाहनों की जांच के लिए अभियान छेड़ दिया है। कार और बाइकों की जांच की जा रही है। जिनके पास वैध पीयूसी प्रमाण पत्र नही होगा उनके खिलाफ चालान की कार्रवाई की जाएगी। मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार को पेट्रोल पंपों पर दिल्ली परिवहन विभाग की टीमों ने वाहनों के पीयूसी की जांच की। 

परिवहन विभाग के डीसी अनुज भारती ने बताया कि हमने यह सुनिश्चित करने के लिए जांच अभियान चलाया है कि वाहन प्रदूषण उत्सर्जन मानक का पालन कर रहे हैं या नहीं। अगर पीयूसी प्रमाणपत्र अमान्य/समाप्त पाया गया है वाहन मालिकों को ई-चालान भेजा जाएगा।

बता दें कि दिल्ली में बगैर प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र (पीयूसीसी) वाले वाहनों के खिलाफ परिवहन विभाग ने सख्ती की है। पिछले कुछ दिनों से पीयूसीसी बनवाने वालों की संख्या भी तेजी से बढ़ी है।

पीयूसीसी नही होने पर कटेगा 10 हजार रुपये का चालान

वैध प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र (पीयूसी) नही होने पर वाहनों का 10 हजार रुपये चालान काटा जा रहा है। परिवहन विभाग की प्रवर्तन टीमें सात अक्टूबर से लगातार वाहनों की जांच कर रही हैं।

दिल्ली परिवहन विभाग के अनुसार, राजधानी में अभी तक करीब 18 लाख वाहनों के पास पीयूसी प्रमाणपत्र नहीं हैं। विभाग ने 13 लाख वाहन मालिकों को पीयूसी प्रमाणपत्र बनवाने के लिए नोटिस भी भेजे हैं। परिवहन विभाग अधिकारी ने कहा कि वाहन मालिकों के मोबाइल नंबर पर भेजा गया संदेश केवल उन्हें जागरूक करने के लिए है। जो पीयूसी नहीं बनवाएं है तो इसे बनवा लें। जिन्होंने बनवा लिया है वे मैसेज को नजरअंदाज करें। बता दें कि दिल्ली में करीब 973 पीयूसी केंद्र हैं, जहां पर वाहन चालक पीयूसी प्रमाणपत्र बनवा सकते हैं।

Edited By: Mangal Yadav