नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। राजधानी में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों के बावजूद लोग सतर्कता बरतने को तैयार नहीं हैं। मास्क लगाने और शारीरिक दूरी के नियमों की लोग जमकर धज्जियां उड़ाते नजर आ रहे हैं। आजादपुर मंडी, शाहबाद डेरी, बवाना जेजे कालोनी के साथ-साथ नांगलोई में भी जमकर कोरोना नियमों का उल्लंघन किया जा रहा है। नांगलोई में शुक्रवार को बिना मास्क घूमने वाले वाले दो चार लोग नहीं थे। सैकड़ों लोग बिना मास्क के सड़कों पर निकले दिखे।

सुबह से लेकर रात तक कोरोना नियमों की धज्जियां उड़ती रहीं। नांगलोई मेट्रो स्टेशन हो या नजफगढ़ रोड, रेलवे स्टेशन हो या बाजार, नांगलोई के हर कोने में कोरोना संक्रमण को लेकर बरती जा रही लापरवाही ही देखने को मिल रही थी। पुलिसकर्मियों के सामने लोग बिना मास्क के घूम रहे थे और न ही शारीरिक दूरी का पालन किया जा रहा था। ये लोग कोरोना संक्रमण की चेन बन सकते हैं। हालांकि, बाजारों में फल-सब्जी आदि खरीदने आए कुछ लोगों ने मास्क पहने थे। नांगलोई से पीरागढ़ी रोड किनारे भी रेहड़ी पटरी वालों की भरमार रहती है। यहां पर भी शुक्रवार को नियमों का उल्लंघन कर भारी संख्या में लोग खरीदारी करने पहुंच रहे थे।

दुकानदार भी नहीं लगा रहे मास्क: कोरोना संक्रमण को लेकर नांगलोई में न दुकानदार सजग दिखे और न ही खरीददार। ग्राहक तो बिना मास्क के ही दुकानों पर पहुंच रहे थे, वहीं कई दुकानदारों ने भी कोरोना नियमों का पालन नहीं किया था। रेहड़ी-पटरी वालों के मास्क तो गले में लटके हुए दिखे।

रेहड़ी पटरी वालों को देखकर लग रहा था मानो उन्होंने सिर्फ चालान से बचने के लिए मास्क रखे हुए हों। शारीरिक दूरी का पालन तो नांगलोई में हो ही नहीं रहा है। शाम के समय हालात ऐसे हो जाते हैं कि शारीरिक दूरी का पालन करना तो दूर लोग एक दूसरे से सट कर चलने लगते हैं। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि लोग इतने सारे बाजारों में निकलकर आ जाते हैं कि पैर रखने की भी जगह नहीं रहती।

Edited By: Pradeep Chauhan