नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। नई दिल्ली नगर पालिका परिषद् (एनडीएमसी) के 200 के करीब कर्मचारियों के बैंक से ठगी कर अवैध रूप से राशि की निकासी होने के बाद एनडीएमसी ने आइटी विभाग को तलब कर पूरी जानकारी मांगी है। साथ ही एनडीएमसी के सतर्कता विभाग ने नई दिल्ली के जिला उपायुक्त को इसकी शिकायत की है और इस पर तुरंत कार्रवआई की मांग की है।

इस मामले में एनडीएमसी ने बयान भी जारी कर कहा है कि मामला उनके संज्ञान में भी यह मामला आ गया है। इसकी जानकारी दिल्ली पुलिस को दे दी गई है और पुलिस से एनडीएमसी ने संपर्क बनाए हुए हैं। 

एनडीएमसी ने अपने बयान में यह भी कहा है कि वह अपने सभी प्रकार के डाटा की सुरक्षा को सबसे पहली प्राथमिकता पर रखता है। प्रथम दृष्टया यह मामला बैंक एटीएम आधारित धोखाधड़ी का प्रकट होता है। नीतिगत आधार पर किसी भी कर्मचारी के बैंक खाते से धनराशि निकालने से संबंधित कोई भी सूचना न तो कभी मांगती है औ न ही उसे रखती है। एनडीएमसी अपने कर्मचारियाें के सदैव साथ है और इस घटना के समाधान को सुनिश्चित करने के लिए संबंधित बैंकों और पुलिस से निरंतर संपर्क बनाए रखेगी।

इतना ही नहीं बैंक एटीएम को प्रयोग करते समय के लिए बैंकों द्वारा जारी किए गए सावधानी के लिए दिशा-निर्देश क्या करे क्या ना करे को लेकर कर्मचारियों को जागरुक करेगी। उल्लेखनीय है कि एनडीएमसी के 200 कर्मचारियों के बैंक खाते से दिल्ली और देश के विभिन्न इलाकों से एटीएम द्वारा निकासी के मैसेज आ रहे हैं और उनके वेतन खाते से राशी निकाली जा रही है।

एटीएम कार्ड कहां से हुए क्लोन, पुलिस कर रही जांच

एनडीएमसी कर्मचारियों के खाते से रुपये निकाले जाने के मामले में दो एफआइआर कनॉट प्लेस थाने में औ एक संसद मार्ग थाने में की गई है। संसद मार्ग थाने में दर्ज की गई एफआइआर द्वारका इलाके से संबंधित है। उसे संबंधित थाने को स्थानांतरित किया जा रहा है।

एडिशनल डीसीपी दीपक यादव  ने बताया कि प्राथमिक जांच में संभावना है कि एटीएम कार्ड क्लोन कर कर्मियों के खाते से रुपये निकाले गए हैं। एटीएम कार्ड कहां से क्लोन किए गए पुलिस इसकी जांच कर रही है। मामले की पता चलने के उपरांत पहचान होने पर ठगों को गिरफ्तार किया जाएगा।

 

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस