नई दिल्ली, जेएनएन। Rohit Shekhar Tiwari Death Case रोहित शेखर तिवारी हत्याकांड मामले में गिरफ्तार अपूर्वा शुक्ला को बुधवार को दिल्ली की साकेत कोर्ट में पेश किया गया। इसके बाद कोर्ट ने अपूर्वा को दो दिन के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया है।

पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी हत्याकांड मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बुधवार को आरोपित पत्नी अपूर्वा शुक्ला को गिरफ्तार था। 

रोहित की मौत का मामला सामने आने के बाद से ही पत्नी अपूर्वा पुलिस के राडार पर थीं और पूछताछ के दौरान ही उस पर हत्या का शक था। पुलिस को अपूर्वा के खिलाफ पुख्ता सबूत मिले हैं, जिसके बाद बुधवार को गिरफ्तारी की गई है। इससे पहले रविवार और इससे भी पहले शनिवार को पुलिस ने अपूर्वा से 8 घंटे तक लंबी पूछताछ की थी। क्राइम ब्रांच का शक इसलिए भी गहराता रहा, क्योंकि पत्नी अपूर्वा शुक्ला जांच में बिल्कुल भी सहयोग नहीं कर रही थीं।

क्राइम ब्रांच के सूत्रों का कहना है कि मरहूम अपूर्वा शुक्ला के खिलाफ पुख्ता सबूत मिलने के बाद पुलिस ने गिरफ्तारी की है। जो बात सामने आ रही है उसके मुताबिक, हत्या वाली रात यानी 15-16 अप्रैल की रात रोहित और अपूर्वा में जमकर झगड़ा हुआ था। इस दौरान अपूर्वा और रोहित ने एक-दूसरे का गला दबाया था। बता दें कि 16 अप्रैल को रोहित अपने बंगले के कमरे में मृत पाए गए थे। पुलिस ने हत्या की पुष्टि के बाद कई घंटे तक उनकी पत्नी से पूछताछ की थी, जिसके बाद क्राइम ब्रांच का शक अपूर्वा पर बढ़ गया था।

वहीं, मामला हाई प्रोफाइल होने के चलते रोहित के डिफेंस कॉलोनी स्थित घर सी-329 को क्राइम ब्रांच ने पिछले कई दिनों से इंवेस्टिगेशन सेंटर बना रखा था। परिवार के सभी सदस्यों को हिरासत में रखा हुआ था, उनसे पूछताछ हो रही था। इसके अलावा, अपूर्वा शुक्ला समेत सभी सदस्यों पर 24 घंटे नजर रखी जा रही थी। यहां तक कि रात को सोने से लेकर वाशरूम जाने व खाना खाने आदि के दौरान भी पुलिसकर्मी नजर रख रहे थे। 

फॉरेंसिक रिपोर्ट के मुताबिक, 16 अप्रैल को अपने कमरे में मृत पाए गए रोहित शेखर तिवारी को हत्या से पहले शायद कोई दवा दी गई थी। इतना ही नहीं, रिपोर्ट में यह भी सामने आया है कि गला घोंटने के पहले रोहित को कोई दवा देकर बेहोश किया गया था, जिसके असर से रोहित की अंगलियों का ऊपरी हिस्सा और की अन्य अंग नीले पड़े हुए थे। इससे यह पता चलता है कि उनके खून में ऑक्सीजन की कमी हो रही थी। हालांकि, पोस्टमॉर्टम और फरेंसिक रिपोर्ट में हत्या का जिक्र होने के बाद अब मौत की असल वजह का सामने आना जरूरी है।

बता दें कि क्राइम ब्रांच के 25 से अधिक अधिकारियों की टीम कई दिनों से रोहित के डिफेंस कॉलोनी स्थित घर सी-329 में डेरा डाले डाले जांच में जुटी हुई थी। बताया जा रहा है कि हत्या के कई सबूत मिल चुके हैं। इससे पहले मंगलवार को एडिशनल पुलिस कमिश्नर, क्राइम ब्रांच, राजीव रंजन ने कुछ नई जानकारी देते हुए बताया था कि रोहित हत्याकांड में मुख्य संदिग्ध उनकी पत्नी अपूर्वा शुक्ला तो हैं ही। वहीं घटना वाली रात घर में मौजूद चालक अभिषेक व रोहित का मसाज करने वाला भोलू भी शक के दायरे में है। पुलिस अधिकारी के संकेत से ऐसा माना जा रहा था कि अपूर्वा शुक्ला पर हत्या करने व अभिषेक व भोलू पर आपराधिक साजिश में शामिल होने व सुबूत नष्ट करने की धाराएं लग सकती हैं।

शुरुआत में पुलिस यह मानकर जांच कर रही थी कि हत्या का मकसद अवैध रिश्ते को लेकर विवाद हो सकता है। इस एंगल को ध्यान में रखकर क्राइम ब्रांच रोहित की पत्नी अपूर्वा शुक्ला को केंद्र में रखकर जांच कर रही थी, लेकिन इस दिशा में कोई सबूत नहीं मिला। फिर पुलिस संपत्ति को लेकर हत्या किए जाने के एंगल पर जांच कर रही थी।

...इसलिए नाक से निकला खून

पुलिस पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, पोस्टमॉर्टम की फाइनल रिपोर्ट में दम घुटने से कान की नस फटने की बात कही गई है। इसी वजह से नाक से खून निकलना बताया गया है। उनके पेट में ऐल्कॉहॉल और अनपचा खाना मिला। इससे जाहिर होता है कि दवा खाने के कुछ ही मिनट बाद रोहित ने दम तोड़ दिया होगा। 

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप