नई दिल्ली [जेएनएन]। तिलक मार्ग थाना पुलिस ने 15 अगस्त को इंडिया गेट के समीप संविधान सहित सभी धर्म ग्रंथों की प्रति जलाने के मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों की पहचान शकील और मदन शर्मा के रूप में हुई है। दोनों नई दिल्ली स्थित पांच सितारा होटल ललित में वेटर का काम करते हैं। पुलिस ने उनके खिलाफ राष्ट्रीय सम्मान को ठेस पहुंचाने सहित अन्य धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि देश में धर्म के कारण फैल रही नफरत के विरोध में प्रतियां जलाई थीं।

गिरफ्त में आरोपी 

पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 15 अगस्त को तिलक मार्ग थाना पुलिस को सूचना मिली थी कि इंडिया गेट पर दो लोग संविधान और धार्मिक किताबें जला रहे हैं। इसकी सूचना मिलते ही पुलिस की टीम मौके पर गई तो पाया कि वहां जले हुए धर्म ग्रंथ के कुछ टुकड़े पड़े हुए हैं। वहीं, सब इंस्पेक्टर सीताराम और कांस्टेबल राजेंद्र ने मदन शर्मा नाम के युवक को दबोच लिया। घटना स्थल पर मौजूद कुछ लोगों ने वीडियो भी बना लिया था। इसमें दो लोग धार्मिक पुस्तकें जलाते हुए दिख रहे हैं। वहीं, बाद में तिलक मार्ग थाना एसएचओ नरेश कुमार की टीम ने अन्य आरोपी शकील को भी धर दबोचा।

धर्म के कारण लोगों के बीच नफरत और तनाव

पुलिस के मुताबिक, मदन शर्मा जम्मू के उधमपुर का रहने वाला है। वह घर से भागकर दिल्ली आया था और होटल में वेटर का काम करने लगा था। वहीं शकील बुलंदशहर का निवासी है। पुलिस पूछताछ में मदन ने बताया कि देश में धर्म के कारण लोगों के बीच नफरत और तनाव है। वहीं, भारत का संविधान इसे रोक नहीं पा रहा है। इससे आहत होकर उन्होंने 15 अगस्त की शाम इंडिया गेट पर बाइबल, गीता, कुरान, गुरु ग्रंथ साहिब सहित संविधान की प्रति जलाई थी। उसे शकील ने इस काम के लिए उकसाया था। आरोपियों ने नई दिल्ली के अलग-अलग स्थानों से धार्मिक ग्रंथ और संविधान की प्रति खरीदी थी।