नई दिल्‍ली, जागरण संवाददाता। Nirbhaya Case: निर्भया के दोषियों को फांसी की तारीख करीब आने के साथ ही जेल प्रशासन की तैयारियां तेज हो गई हैं। जेल अधिकारी किसी गड़बड़ी की गुंजाइश छोड़ना नहीं चाहते। सोमवार को जेल संख्या तीन में फांसी पर लटकाने का ट्रायल किया गया। करीब चार घंटे तक चले ट्रायल के दौरान दोषी व जल्लाद को छोड़कर जेल के वे सभी अधिकारी व कर्मी मौजूद थे, जिन्हें फांसी की प्रक्रिया के दौरान उपस्थित रहना चाहिए। सूत्रों का कहना है कि मंगलवार को भी ट्रायल किया जाएगा।

निर्भया के चारों दोषी जेल संख्या तीन में बंद हैं। इस जेल में ही फांसी घर है। यह पहला मौका है कि जब दोषियों की सेल से कुछ मीटर की दूरी पर ही ट्रायल चला। इस दौरान चारों दोषियों के वजन के बराबर पुतले बनाकर उन्हें फंदे पर लटकाया गया। जेल सूत्रों का कहना है कि ट्रायल के दौरान ध्यान रखा गया कि दोषियों को इसका पता न चले। जब तक ट्रायल चला, तब तक उनके सेल के आसपास जेलकर्मियों व तमिलनाडु पुलिस का कड़ा पहरा रहा।

जेल सूत्रों का कहना है कि अधिकारियों की ओर से जेल कर्मियों को इस बात के स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि दोषियों के कान तक ऐसी कोई बात जेलकर्मियों के माध्यम से न पहुंचे, जिससे उनमें भय की भावना जगे। जेल अधिकारी या कर्मचारी सभी बातचीत के दौरान दोषियों को सामान्य बनाने की कोशिश करते हैं।

रुकी रही आवाजाही

फांसी घर के आसपास से गुजरने वाले सभी रास्तों पर कैदियों की आवाजाही रोक दी गई। फांसी घर के नजदीक की बैरकों को भी बंद कर दिया गया। फांसी घर परिसर में भी ट्रायल के दौरान ताला लगा रहा।

निर्भया की मां ने जताया न्यायपालिका पर भरोसा

इस बीच, निर्भया की मां ने उम्मीद जताई कि फांसी टालने के लिए दोषियों की पैंतरेबाजी सफल नहीं होगी। उन्होंने कहा कि मुझे सुप्रीम कोर्ट पर पूरा भरोसा है और उम्मीद है कि दोषी 1 फरवरी को फांसी पर लटकाए जाएंगे।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस