नई दिल्ली [रणविजय सिंह]। कोरोना की मौजूदा तीसरी लहर में टीका नहीं लेने वाले मरीज मौत के शिकार अधिक हो रहे हैं। इसमें एक बड़ी संख्या बुजुर्गों की है। इस बीच दिल्ली में 60 साल से अधिक उम्र के लोगों की आबादी की तुलना में बुजुर्गों का टीकाकरण करीब एक तिहाई (36.70 प्रतिशत) कम हुआ है। इसलिए काफी संख्या में बुजुर्ग अभी टीकाकरण से छूटे हुए हैं। एनसीआर के शहरों में भी हापुड़ में 28 प्रतिशत व फरीदाबाद में 14 प्रतिशत बुजुर्गों को अभी तक एक भी डोज टीका नहीं लग पाया है।

दिल्ली में बुजुर्गो को पहली व दूसरी डोज मिलाकर कुल 27 लाख 67 हजार 655 डोज टीका लगा है, जबकि मतदाता सूची के अनुसार दिल्ली में 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गो की संख्या 21 लाख 86 हजार 269 है। इस लिहाजा से 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों को दोनों डोज मिलाकर 43 लाख 72 हजार 538 डोज टीकाकरण होना चाहिए था। इससे 16 लाख चार हजार 883 डोज टीकाकरण कम हुआ है।

यदि एनसीआर के शहरों की बात करें तो गौतमबुद्धनगर में करीब 25 प्रतिशत बुजुर्गों का टीकाकरण पूरा नहीं हुआ है। फरीदाबाद में 30.50 प्रतिशत बुजुर्गों को दोनों डोज टीकाकरण पूरा हो पाया है। 69.5 प्रतिशत बुजुर्गों का टीकाकरण पूरा नहीं हुआ है। हापुड़ में 48.06 प्रतिशत बुजुर्गों को अभी दूसरी डोज लगना बाकी है। मौलाना आजाद मेडिकल कालेज (एमएएमसी) की प्रोफेसर निदेशक डा. सुनीला गर्ग ने कहा कि दिल्ली की कुल आबादी करीब दो करोड़ है। जिसमें बुजुर्गों की आबादी करीब 10 फीसद है।

इस लिहाजा से बुजुर्गों को दोनों डोज मिलाकर कम से कम 40 लाख डोज टीका लगना चाहिए था। इसका मतलब है कि काफी बुजुर्ग ऐसे हैं, जन्हें अभी तक टीका नहीं लगा है। ओमिक्रोन बहुत तेजी से फैलता है। इसलिए यह बुजुर्गो को बहुत ज्यादा संक्रमित करेगा। खास तौर पर 70 साल से अधिक उम्र वाले बुजुर्गों को खतरा अधिक है। बुजुर्गों को कई बीमारियां भी होती हैं। बुजुर्गो के कम टीकाकरण को लेकर दिल्ली सरकार से पक्ष मांगा गया, लेकिन नहीं मिल सका।

आबादी की तुलना में बुजुर्गों का टीकाकरण एक तिहाई कम

राजधानी में किशोरों का टीकाकरण तेजी से हो रहा है। शुक्रवार को भी 15 से 18 साल की उम्र के 47,453 किशोरों को टीका लगा। इससे किशोरों का टीकाकरण शुरू होने के 12 दिनों में ही दिल्ली में करीब 50 फीसद किशोरों को टीके की पहली डोज देने का काम पूरा हो गया है। दिल्ली में 15 से 18 साल की उम्र के करीब 10 लाख बच्चों को कोरोना का टीका दिया जाना है। यह आंकड़ा आरजीआइ (रजिस्ट्रार जनरल आफ इंडिया) ने दिल्ली सरकार को भेजा है।

एक दिन पहले तक दिल्ली में चार लाख 59 हजार 289 किशोरों का टीकाकरण हुआ था। शुक्रवार के टीकाकरण के बाद अब तक कुल पांच लाख छह हजार 742 किशोरों को टीका लग चुका है। इस रफ्तार से टीकाकरण होने पर अगले 12 दिनों में करीब 10 लाख किशोरों को पहली डोज देने का काम पूरा हो जाएगा। किशोरों को कोवैक्सीन टीका लग रहा है। टीके की पहली डोज लेने के 28 दिन के बाद दूसरी डोज दी जाएगी।

अब तक एक लाख से अधिक पात्र लोगों को लगी सतर्कता डोज

दिल्ली में शुक्रवार को 18,218 स्वास्थ्य कर्मियों, अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों व पुरानी बीमारियों से पीड़ित बुजुर्गों को सतर्कता डोज दी गई। इसके तहत 3617 स्वास्थ्य कर्मियों, 10,376 अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों व 4,225 बुजुर्गों ने टीके की सतर्कता डोज ली। इसलिए अब तक कुल एक लाख सात हजार 635 पात्र लोगों को सतर्कता डोज दी जा चुकी है।

Edited By: Pradeep Chauhan