नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों और मौतों के बढ़ते आंकड़ों ने आम आदमी पार्टी सरकार को चिंता मे डाल दिया है। इस बीच रविवार को एक अहम फैसले में दिल्ली के मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन को 17 मई तक बढ़ाने के साथ यह एलान भी किया है कि 16 मई तक दिल्ली मेट्रो का परिचालन नहीं किया जाएगा।यह इस साल पहला मौका है जब दिल्ली मेट्रो लगातार एक सप्ताह तक बंद रहेगी। इससे पहले 22 मार्च से लेकर 6 सितंबर तक दिल्ली मेट्रो का परिचालन लॉकडाउन के चलते ठप रहा था। इसके बाद 7 सितंबर से कई चरणों में दिल्ली मेट्रो के संचालन की शुरुआत हुई थी। मेट्रो का संचालन नहीं होने से जरूरी सेवाओं से जुड़े यात्रियों को दिक्कत हो सकती है। वहीं, यह भी कहा जा रहा है कि दिल्ली में लॉकडाउन है, ऐसे में सड़क पर ट्रैफिक नहीं, ऐसे में जरूरी सेवाओं से जुड़े लोग आसानी से सफर कर सकेंगे।

कोरोना वायरस संक्रमण पर काबू पाने के लिए 19 अप्रैल से लगाए गए लॉकडाउन ने न केवल यात्रियों की मुश्किलें बढ़ाई है, बल्कि इससे रोजगार और कारोबार भी प्रभावित हुआ है। वहीं, दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) को भी भारी नुकसान हो रहा है। माना जा रहा है कि पिछले एक साल के दौरान दिल्ली मेट्रो को 3000 करोड़ रुपये से अधिक  का घाटा हो चुका है। एक सप्ताह के दौरान दिल्ली मेट्रो को करोड़ों रुपये का घाटा होना तय है।

19 अप्रैल से बेहद कम यात्री संख्या के साथ चल रही थी मेट्रो

लॉकडाउन लगने के बावजूद 19 अप्रैल से दिल्ली मेट्रो बेहद कम क्षमता के यात्रियों के साथ दिल्ली-एनसीआर में दौड़ रही थी। इस दौरान दिल्ली मेट्रो सुबह 7-11 और शाम को भी 4 ही घंटे दौड़ रही थी, लेकिन अब यह एक सप्ताह तक ठप रहेगी। जानकारों की मानें तो मार्च 2020 में कोरोना वायरस संक्रमण से पहले दिल्ली मेट्रो की रोजाना कमाई 10 करोड़ रुपये थी, लेकिन इसके बाद लगातार 6 महीने तक बंद रही। सितंबर के पहले सप्ताह में दिल्ली मेट्रो का संचालन तो शुरू हुआ, लेकिन कम यात्रियों की क्षमता के साथ। अब तो 16 मई तक मेट्रो का परिचालन ही ठप कर दिया गया है।

Lockdown 2021 Extension: देश की राजधानी में 17 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, दिल्ली मेट्रो का संचालन भी होगा बंद