ई दिल्ली, जागरण संवाददाता। राजधानी दिल्ली में लॉकडाउन आगामी 17 मई तक बढ़ा दिया गया है।चैंबर आफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (सीटीआइ) ने बताया था कि दिल्ली के 65 फीसद व्यापारी लाकडाउन बढ़ाने के पक्ष में है। इस संबंध में 480 व्यापारी व औद्योगिक संगठनों की राय ली गई है। कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए 20 अप्रैल से दिल्ली में लाकडाउन लगा हुआ है, जिसे दिल्ली सरकार की ओर से हर सप्ताह बढ़ाया जा रहा है।

सीटीआइ के चेयरमैन बृजेश गोयल व अध्यक्ष सुभाष खंडेलवाल ने कहा था कि राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण की दर और स्वास्थ्य ढांचे में बड़ा सुधार नहीं आया है। इसलिए अधिकांश इसके बढ़ाए जाने के हक में है। सीटीआइ ने 480 से ज्यादा व्यापारी संगठनों से रायशुमारी की। इसमें कश्मीरी गेट, चांदनी चौक, चावड़ी बाजार, सदर बाजार, खारी बावली, करोलबाग, कमला नगर, राजौरी गार्डन, नेहरू प्लेस, साउथ एक्स, गांधी नगर, लक्ष्मी नगर, रोहिणी, पीतमपुरा, जनकपुरी, मालवीय नगर, द्वारका व ग्रेटर कैलाश जैसे बड़े बाजारों के संगठनों के साथ उद्योग, होटल व रेस्त्रां व ब्यूटी-वेलनेस संगठनों के पदाधिकारी भी शामिल थे।

सीटीआइ रायशुमारी में मिले सुझावों की एक रिपोर्ट बनाकर सरकार को सौंपेगी।सीटीआइ के महासचिव विष्णु भार्गव और रमेश आहूजा ने बताया कि 480 में से 315 संगठन पदाधिकारी एक हफ्ता तथा 60 संगठन लाकडाउन को दो हफ्ता बढाने के पक्ष में थे। वहीं, 100 संगठन इसे खत्म करने के पक्ष में हैं। वे चाहते हैं कि हफ्ते में तीन दिन या आड-इवेन के रूप में बाजारों को खोलने की अनुमति मिले।

उद्योग को खोलने की मिले अनुमति

इस सर्वे में शामिल दिल्ली के 28 औद्योगिक क्षेत्रों के फैक्ट्री मालिकों में 70 फीसद का कहना था कि फैक्टि्रयों में आम लोगों की आवाजाही बिल्कुल नहीं होती है। इसके चलते वहां कोरोना संक्रमण का खतरा कम है। इसलिए दिल्ली में सभी तरह की फैक्टि्रयों को खोलने की अनुमति मिलनी चाहिए।

बढ़ाया जाए लाकडाउन

आटोमोटिव पा‌र्ट्स मर्चेट एसोसिएशन (अपमा) के अध्यक्ष विनय नारंग व महासचिव धर्मपाल रात्रा ने बताया कि कश्मीरी गेट के व्यापारियों ने आनलाइन बैठक कर कहा है कि दिल्ली में जो स्थिति है उसमें लाकडाउन बढ़ाना हितकर होगा। इसके लिए अपमा ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को पत्र भी भेजा है। वहीं, द बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन कूचा महाजनी के अध्यक्ष कमलेश कुमार जैन, दिल्ली हिंदुस्तानी मर्केटाइल एसोसिएशन के प्रधान अरुण सिंघानिया, दिल्ली ग्रेन मर्चेट एसोसिएशन के अध्यक्ष नरेश गुप्ता, केमिकल मर्चेट एसोसिऐशन के प्रधान प्रदीप गुप्ता, फेडरेशन आफ सदर बाजार ट्रेड एसोसिएशंस के अध्यक्ष राकेश यादव, किराना कमेटी, खारी बावली के निवर्तमान प्रधान प्रेम अरोड़ा, दिल्ली वेजिटेबल आयल ट्रेडर्स ऐसोसिएशन के अध्यक्ष हेमंत गुप्ता, न्यू लाजपत राय मार्केट के प्रधानपंकज शर्मा, दिल्ली इलेक्टि्रकल ट्रेडर्स एसोसिएशन के प्रधान भारत आहूजा, फोटो ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष विजय कुमार सेठी, दरीबा व्यापार मंडल के अध्यक्ष बसंत कुमार गुप्ता व आटोमोटिव एंड जनरल ट्रेडर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष निरंजन पोद्दार ने संयुक्त बयान जारी कर कहा है कि उनके संगठनों ने लाकडाउन पर कोई भी निर्णय लेने का मामला सरकार पर छोड़ दिया है।