नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। 2021 की तुलना में इस साल सितंबर की हवा ही नहीं बिगड़ी, मौसम में भी गर्माहट महसूस की गई। सामान्य से अधिक बरसात दर्ज होने के बावजूद माह के ज्यादातर दिन सूखे रहे तो अधिकतम तापमान में भी आंशिक रूप से इजाफा देखने को मिला।

सितंबर में हुई ठीकठाक बारिश

मौसम विभाग के मुताबिक सितंबर का औसत अधिकतम तापमान 34.1 डिग्री सेल्सियस है। लेकिन इस बार यह .2 डिग्री ज्यादा 34.3 डिग्री सेल्सियस रहा। इसी तरह माह का औसत न्यूनतम तापमान 25.0 डिग्री सेल्सियस है जबकि इस बार यह .1 डिग्री कम 24.9 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ। अब अगर वर्षा की बात करें तो सितंबर की औसत सामान्य बरसात 125.1 मिमी है।

दिल्ली में सूख के हालात

कहने को इस बार भी यह 164.5 मिमी यानी 33 प्रतिशत ज्यादा हुई है। पिछले साल यह 413.3 मिमी यानी 230 प्रतिशत ज्यादा हुई थी, लेकिन पिछले साल जहां माह के ज्यादातर दिन हल्की या तेज बरसात चली थी वहीं इस बार माह के पहले तीन सप्ताह लगभग सूखे जैसे रहे, इसीलिए गर्मी भी ज्यादा महसूस हुई।

ग्लोबल वार्मिंग से हो रहा बदलाव

स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष (मौसम विज्ञान एवं जलवायु परिवर्तन) महेश पलावत ने बताया कि पिछले साल के मुकाबले इस साल सितंबर के थाेड़ा गर्म रहने की वजह वर्षा के दिनों की संख्या घटना ही रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग की वजह से मानसून की वर्षा का ट्रेंड साल दर साल बदल रहा है।

किसानों की फसल भी हो रही प्रभावित

यहां पर बता दें कि पिछले कुछ वर्षों से मानसून की बारिश का ट्रेंड साल दर साल बदल रहा है। मौसम विज्ञानियों की मानें तो यह स्थिति मौसम चक्र को तो प्रभावित कर ही रही है, किसानों के लिए भी परेशानी की वजह बन रही है। बुआई और कटाई दोनों पर ही इसका असर पड़ रहा है। कई बार तो तेज वर्षा से कटाई के समय में फसल बर्बाद भी होने लगती है।

यूपी-बिहार वालों को ट्रेनों में नहीं मिल रहा टिकट, योगी सरकार ने दिया विकल्प; छठ-दीवाली पर मिलेगी राहत

दिल्ली-NCR में आज से GRAP प्रभावी, प्रदूषण बढ़ने पर कई चरणों में लगेंगी कई पाबंदियां; बदल जाएगा बहुत कुछ

Edited By: JP Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट