नई दिल्ली (जेएनएन)। दिल्ली हाई कोर्ट ने गुलाम कश्मीर को लेकर नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के विवादित बयान पर उनके खिलाफ दायर जनहित याचिका को मंगलवार को हुई सुनवाई के दौरान खारिज कर दिया। हालांकि, सोमवार को इस मामले की सुनवाई पर सहमति जताई थी।

यहां पर बता दें कि कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ ने फारुक अब्दुल्ला खिलाफ दायर जनहित याचिका को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया था।

याचिकाकर्ता के वकील ने तत्काल सुनवाई करने का आग्रह किया था। इस पर पीठ ने कहा कि कोई संकट या जल्दबाजी नहीं है। इसके लिए किसी अन्य दिन तक के लिए इंतजार क्यों नहीं किया जा सकता है? सामाजिक कार्यकर्ता मौलाना अंसार रजा ने यह याचिका दायर की थी।

याचिका में उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने पाकिस्तान का समर्थन कर भारत का अपमान किया है। मामले की तत्काल जांच और सांसद को गिरफ्तार किया जाए। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस