नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने दिल्ली में सभी को इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए प्रोत्साहित करने के लिए शनिवार को स्विच दिल्ली प्रतिज्ञा अभियान शुरू किया। उन्होंने कहा है कि इसे अधिक से अधिक दिल्लीवासियों को ईवी नीति का हिस्सा बनने के लिए प्रोत्साहित करने और दिल्ली को भारत की ईवी राजधानी बनाने में मदद करने के लिए लांच किया गया है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने इस फैसले पर ट्वीट कर कहा है कि दिल्ली में प्रदूषण को रोकने के लिए यह एक लंबा रास्ता तय करेगा। दिल्ली तेजी से एक आधुनिक शहर बन रही है। हर भारतीय को दिल्ली पर गर्व है।

मौजूदा सरकारी बेड़े में शामिल डीजल या पेट्रोल वाहन को ईवी में बदलने की प्रगति की निगरानी के लिए दिल्ली परिवहन विभाग को नोडल विभाग बनाया गया है। सभी विभागों के लिए यह भी आवश्यक होगा कि वे नोडल विभाग को इलेक्ट्रिक वाहनों में बदलने की मासिक कार्रवाई की रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे।

परिवहन मंत्री ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली सरकार की छह महीने में अपनी सभी किराये की कारों को इलेक्ट्रिक में बदलने की प्रतिबद्धता अभूतपूर्व है। वहीं, स्विच दिल्ली अभियान तीसरे सप्ताह इलेक्ट्रिक चार पहिया वाहनों के लाभ के बारे में लोगों जागरूक करने पर केंद्रित रहा। इस दौरान गहलोत ने ईवी नीति को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा दी जा रहीं सुविधाओं के बारे में बताया।

उनका दावा है कि ईवी नीति के तहत दिल्ली में देश में सबसे अधिक सब्सिडी दी जा रही है। जिसमें 1.5 लाख सब्सिडी, पंजीकरण, और रोड टैक्स छूट शामिल है, जो करीब 3 लाख बैठता है। उनके अनुसार, दिल्ली की ईवी नीति में दी जाने वाली सब्सिडी इलेक्ट्रिक कारों के स्वामित्व की कुल लागत को 30 फीसद तक कम कर रही है। एक व्यक्ति एक डीजल कार से ईवी पर स्विच करके प्रति माह 1050 रुपये बचा सकता है।

ईवी मालिक दिल्ली निवासी अंजू जैन ने कहा ईवी खरीदना, रखना और चलाना काफी आसान है। यह एक बहुत ही स्मूथ और बिना आवाज वाला वाहन होता है। एक इलेक्ट्रिक वाहन गति और प्रदर्शन के मामले में एक आइसीई वाहन बेहतर है। उन्होंने कहा कि मैं 15 एंपीयर के साधारण प्लग प्वाइंट के माध्यम से अपने घर पर ही ईवी को चार्ज करती हूं और यह लगभग 220 किमी तक चलती है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021