नई दिल्ली, एएनआइ। दिल्ली में शनिवार को कोरोना के 1118 केस मिले हैं। वहीं 1201 लोगों ने इस गंभीर बीमारी को मात देकर ठीक हुए हैं। इधर 24 घंटे में कुल मौत 26 हुई है। बता दें कि शनिवार के आंकड़ें जो दिल्ली में कोरोना के कुल केस 136716 हो गए हैं। इधर रिकवरी रेट दिल्ली में काफी बेहतर है। कुल 122131 लोगों ने इस बीमारी को मात देकर स्वथ्य हुए हैं। कुल मौत की संख्या की बात करें तो 3989 लोग इस बीमारी के कारण दम तोड चुके हैं।

संक्रमण दर 6.15 फीसद 
दिल्ली में अब तक 10 लाख 50 हजार 939 सैंपल की जांच हो चुकी है। जिसमें से 18,154 सैंपल की जांच पिछले 24 घंटे में हुई है। 5140 सैंपल की आरटीपीसीआर व 13,014 सैंपल की एंटीजन जांच की गई है। जिसमें से 6.15 फीसद सैंपल पॉजिटिव पाए गए।

कोरोना के संक्रमण के डर से कई मरीज पुरानी बीमारियों पर ठीक से ध्यान नहीं दे पा रहे हैं। लिवर की बीमारी से पीड़ित 45 वर्षीय एक मरीज को बीमारी पर ध्यान नहीं देना बहुत महंगा पड़ा और बात लिवर प्रत्यारोपण तक पहुंच गई। दरअसल, मरीज को कई दिनों से तेज बुखार था, लेकिन शुरुआत में वह बीमारी को नजरअदांज करते रहे। आतंरिक रक्तस्नाव होने पर जब मरीज की हालत बिगड़ने लगी तक परिजन उन्हें लेकर अपोलो अस्पताल की इमरजेंसी में पहुंचे। मरीज की तमाम जांच के बाद डॉक्टरों ने लिवर प्रत्यारोपण का फैसला लिया। पीड़ित की बेटी ने लिवर दान किया, जिससे डॉक्टरों ने इमरजेंसी में लिवर प्रत्यारोपण कर मरीज की जान बचाई।

अस्पताल के डॉक्टर कहते हैं कि मरीज मूलरूप से बिहार के रहने वाले हैं। मरीज को पिछले दो साल से लिवर की बीमारी थी। जून में उनकी हालत बिगड़ गई। उन्हें कई दिनों से तेज बुखार था। इलाज में देरी के कारण पेट में आंतरिक रक्तस्नाव होने लगा था। अस्पताल पहुंचने पर जब जांच की गई तो पता चला कि लिवर खराब हो गया है। इस वजह से लिवर प्रत्यारोपण करने का सुझाव दिया गया। अस्पताल में लिवर प्रत्यारोपण के वरिष्ठ कंसल्टेंट डॉ. नीरव गोयल ने बताया कि 19 जून को उनकी सर्जरी की गई। 9 जुलाई को मरीज को छुट्टी दे दी गई।

 

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस