नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली के जहांगीरपुरी में मानसून की बारिश के बाद कई स्थानों पर जल जमाव होने के बाद क्षेत्र की निगम पार्षद पूनम बागड़ी धरने पर बैठ गई हैं। जहांगीरपुरी मुख्य मार्ग पर घुटनों तक पानी भरने के बाद वार्ड 21 की निगम पार्षद पूनम बागड़ी स्थानीय लोगों व कार्यकर्ताओं के साथ सड़क पर ही कुर्सी लगाकर बैठ गई हैं। उनका कहना है कि वर्ष 2017 में निगम पार्षद चुने जाने के बाद से ही क्षेत्र में नालों की सफाई का मुद्दा वह केजरीवाल सरकार के सामने उठाती रही हैं। सरकार को ज्ञापन भी दिये लेकिन इसके बावजूद बड़े नालों की सफाई नहीं की गई।

इस वजह से जल निकासी ठीक से नहीं होती है। ऐसे में क्षेत्र के निवासियों को कोरोना महामारी के बीच गंदे पानी के बीच रहने को मजबूर हैं। इससे बीमारियों के पनपने का खतरा दिख रहा है। इसलिए वह विरोध स्वरूप पानी से भरे सड़क पर बैठकर धरना कर रही हैं।

कांग्रेस पार्टी की निगम पार्षद बागड़ी ने कहा कि जब दिल्ली में शीला दीक्षित की सरकार थी तब मात्र 28 हजार करोड़ का बजट होता था लेकिन उस समय भी दिल्ली की सड़कें, गलियों और नालियों का निर्माण दिखता था। आज दिल्ली सरकार का बजट कई गुना बढ़ चुका है और टैक्स वसूली भी बढ़ी लेकिन विकास कार्यों के मामले में ये फिसड्डी साबित हुए हैं। यदि जलनिकासी की व्यवस्था उचित समय पर हो जाती तो आज दिल्ली की सड़कें तालाब नहीं बन रही होती। उन्होंने कहा कि जब भी बारिश के बाद जहांगीरपुरी में सड़कों पर जलभराव होगा, वह इसी तरह से सड़क पर पानी के बीच बैठकर अपना विरोध जताएंगी।

Edited By: Mangal Yadav