नई दिल्‍ली, पीटीआइ। दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने निर्भया के गुनहगारों को फांसी दिए जाने के बाद कहा कि यह एक संकल्‍प लेने का दिन है ताकि दूसरी ऐसी घटना ना हो सके। दिल्‍ली के तिहाड़ जेल में निर्भया के चारों गुनहगारों को आज फांसी दी गई। उन्‍हें यह फांसी सुबह साढ़े पांच बजे दी गई। 

फैसले आने में सात साल लग गए

सीएम केजरीवाल ने कहा आज से सात साल पहले कुछ दरिंदों ने वहशियाना तरीकों से इज्‍जत लूटी और उसका कत्‍ल कर दिया। पिछले सात साल से पूरा देश न्‍याय की उम्‍मीद लिए बैठा था। आज निर्भया के दोषियों को फांसी हो गई। साल साल लग गए। मुझे लगता है कि आज वो दिन है जब हमें संकल्‍प करने की जरूरत है कि दूसरी निर्भया नहीं होनी चाहिए। पिछले कुछ महीनो से फांसी की सजा मिलने के बाद भी सिस्‍टम को कैसे मैनुप्‍लेट किया, हर बार फांसी को टलवा लिया। हमारे सिस्‍टम के अंदर बहुत सारी खामियां है जो गलत करने वालों को प्रोत्‍साहन देती है। केस लटकते रहेंगे चलते रहेंगे। अब लेकिन दूसरी निर्भया नहीं होनी चाहिए। खास कर पुलिस की कमियों की ओर इशारा किया।

देशवासियों में खुशी की लहर

इसके बाद से देशवासियों में एक खुशी की लहर देखी जा रही है। राष्‍ट्रीय महिला आयोग की अध्‍यक्ष से लेकर दिल्‍ली महिला आयोग की अध्‍यक्ष ने इस फैसले के बारे में बारे में खुशी जता चुकी है। फांसी देने के बाद तिहाड़ जेल पहुंचे लोगों की भीड़ ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर कोर्ट के इस फैसले का स्‍वागत किया।

रात भर चला कानूनी दांव पेंच का खेल

इससे पहले लगभग पूरी रात दोषियों को बचाने के लिए उनके वकील एपी सिंह कोर्ट के चक्‍कर लगाते रहे। लगभग सभी कैदियों ने कहीं-न-कहीं अर्जी डालकर फांसी रुकवाने के लिए भरपूर प्रयास किया। हालांकि कोर्ट ने उनकी दलीलों को नहीं माना।

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस