नई दिल्ली [वीके शुक्ला]। वैक्सीन को लेकर मुख्य सचिव की चेतावनी कारगर साबित हुई है। जिन तमाम कर्मचारियों ने वैक्सीन नहीं लगवाई थी, उन्होंने चेतावनी के एक सप्ताह के अंदर ही वैक्सीन लगवा ली। विभागीय जानकारों का कहना है कि मुख्य सचिव के आदेश का सख्ती से पालन किया जा रहा है। दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ऐसे बहुत से कर्मचारियों के बारे में जरूर जानकारी मिली है, जिन्होंने एक या दो सप्ताह पहले ही वैक्सीन लगवाई है।

दिल्ली सरकार में एक लाख से अधिक कर्मचारी काम करते हैं। इनमें से 70 हजार का स्टाफ शिक्षा विभाग में ही है। दिल्ली सचिवालय की बात करें तो यहां ही चार हजार से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं।

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी व मुख्य सचिव विजय देव की ओर से गत आठ अक्टूबर को आदेश जारी किया गया था। उसमें 15 अक्टूबर तक दिल्ली के सरकारी कार्यालयों में तैनात कर्मचारियों को वैक्सीन की कम से कम एक डोज लेने का वक्त दिया गया था। आदेश में कहा गया था कि जिन कर्मचारियों को वैक्सीन नहीं लगी होगी उन्हें 16 अक्टूबर से आफिस में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। यह आदेश दिल्ली सरकार के सभी कार्यालयों, स्वायत्तशासी संस्थानों, स्थानीय प्रशासन, शैक्षणिक संस्थानों, फ्रंटलाइन वर्कर, स्वास्थ्य कर्मचारियों और अन्य सरकारी कार्यालयों में तैनात कर्मचारियों के लिए था।

दिल्ली एडमिनिस्टेशन सबआर्डिनेट सर्विस (डास) आफिसर्स एसोसिएशन के महासचिव मनोज अंबास्ता ने कहा कि मुख्य सचिव के आदेश का पालन कड़ाई से किया जा रहा है। सामान्य रूप से कोई भी कर्मचारी ऐसा सामने नहीं आया है जिसने वैक्सीन की एक भी डोजभी न ली हो। कुछ कर्मचारी जो बगैर वैक्सीन वाले मिले, उनके स्वास्थ्य से संबंधित कारण थे। उन्होंने अपने दस्तावेज भी प्रस्तुत किए।

Edited By: Mangal Yadav