नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। दिल्ली विधानसभा की शांति एवं सद्भाव समिति ने इंटरनेट मीडिया पर फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के कथित तौर पर घृणा फैलाने वाले पोस्ट को लेकर उन्हें छह दिसंबर को तलब किया है। समिति के अध्यक्ष राघव चड्ढा ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। समिति की ओर से बताया गया है कि कंगना द्वारा 'इंस्टाग्राम'' पर की गई टिप्पणियों को कथित तौर पर आपत्तिजनक तथा अपमानजनक बताने वाली शिकायतों के आधार पर अभिनेत्री को तलब करते हुए नोटिस जारी किया गया है।

शिकायतों में दावा किया गया है कि कंगना ने अपने कथित पोस्ट में सिख समुदाय को 'खालिस्तानी आतंकवादी'' बताया था। बयान में कहा गया है कि 'शिकायत के मुताबिक ऐसी पोस्ट की सामग्री ने सिख समुदाय की भावनाओं को आहत किया है और उनके मन में उनकी सुरक्षा, जीवन और स्वतंत्रता को लेकर आशंका पैदा की।''

शिकायतकर्ता के मुताबिक कंगना के इंस्टाग्राम अकाउंट से जारी पोस्ट की व्यापक पहुंच है और दुनियाभर में करीब 80 लाख लोग 'फालो'' कर रहे हैं। शिकायत के हवाले से बताया गया कि पोस्ट के साथ जारी तस्वीरों से सिख समुदाय की भावना आहत हुई है और इनमें समाज का सौहा‌र्द्र और शांति भंग करने की ' प्रवृत्ति'' थी। शिकायत में कहा गया कि कंगना ने 20 नवंबर को पोस्ट किया, 'खालिस्तानी आज सरकार पर दबाव बना रहे होंगे .. लेकिन भूलें नहीं कि एक महिला..एकमात्र महिला प्रधानमंत्री ने इनको अपनी जूती के नीचे मसल दिया था।''

कंगना को छह दिसंबर को दोपहर 12 बजे समिति के समक्ष पेश होने को कहा गया है। मालूम हो कि दिल्ली विधानसभा द्वारा वर्ष 2020 में गठित शांति और सदभाव समिति मौजूदा समय में दिल्ली दंगों से जुड़ी शिकायतों पर सुनवाई कर रही है और पिछले सप्ताह उसने भारत में फेसबुक के प्रतिनिधि का बयान दर्ज किया था।

Edited By: Jp Yadav