नई दिल्ली [जेएनएन]। राजस्थान और ब्लूचिस्तान से आ रही गर्म धूल भरी हवाओं से दिल्ली की मुसीबत बढ़ गई है। वायु प्रदूषण खतरनाक श्रेणी में जा पहुंचा है। सफर इंडिया की मानें तो अभी दो सेे तीन दिनों तक दिल्ली में ऐसी ही स्थिति बनी रहेगी। इस हालात को लेकर एडवायजरी भी जारी कर दी गई है।

सांस लेने में परेशानी

धूल भरी आंधी की वजह से दिल्ली बदली हुुुई नजर आ रही है। बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में एयर क्वालिटी गंभीर स्तर तक खराब हो चुकी है। धूल की वजह से हवा में बड़े कणों की मात्रा भी बढ़ गई है। हवा में धूल कणों की अधिकता के चलते लोगों के सांस लेने में परेशानी हो सकती है। सांस के मरीजों के लिए यह स्थिति बेहद खराब है।

दिल्ली-NCR में ये है बदले हुए मौसम का हाल, गर्म हवा ने किया परेशान, धूल से भर गया आसमान

आसमान में धूल का गुबार

दिल्ली के आसमान में धूल का गुबार छा गया है, जिसकी वजह से विजिबिलिटी भी कम हो गई है। राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाके इस खतरनाक धूल की आगोश में आ गए हैं। जामा मस्जिद, लाल किला सहित कई इलाकों में इसका व्यापक असर भी देखने के मिल रहा है। 

कई दिन तक रहेगा असर 

स्काईमेट वेदर के मुख्य मौसम विज्ञानी महेश पलावत के मुताबिक राजस्थान और ब्लूचिस्तान से चल रही गर्म हवाओं के साथ धूल करीब 40 कि.मी. प्रति घंटे की रफ्तार से दिल्ली आ रही है। चूंकि मौसम में नमी नहीं है, इस कारण धूल की इस चादर का असर कई दिन तक बना रहेगा। सफर इंडिया के अनुसार, धूल भरी हवाओं ने दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्थिति में पहुंचा दिया है।

प्रदूषण का स्तर 

पीएम 2.5 बुधवार को दिल्ली में 200 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर दर्ज किया गया जबकि इसका सामान्य स्तर 60 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर होता है। इसी तरह पीएम 10 का सामान्य स्तर 100 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर है जबकि बुधवार को यह 981 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर रिकॉर्ड किया गया। नोएडा में पीएम 2.5 का स्तर 444 जबकि पीएम 10 का स्तर 1135 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर दर्ज किया गया। इसी तरह गुरुग्राम में पीएम 2.5 का स्तर 377 जबकि पीएम 10 का स्तर 796 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर दर्ज किया गया।

घर, दफ्तर के दरवाजे, खिड़की बंद रखने की सलाह

सफर इंडिया की ओर से एडवायजरी जारी की गई है। इसमें बुजुर्गों, महिलाओं और बच्चों को घर के भीतर ही रहने और घर या दफ्तर में खिड़की दरवाजे बंद रखने को कहा गया है। साथ ही कचरा न जलाने की सलाह दी गई है। इस दौरान निर्माण कार्य भी बंद रखने के लिए कहा गया है।

आनंद विहार सबसे खराब

सीपीसीबी की ओर से जारी आंकड़ों में कहा गया है कि दिल्ली के कई इलाकों में स्थिति खराब रहेगी, एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) में पूर्वी दिल्ली के आनंद विहार की एयर क्वालिटी सबसे खराब 891 बताई गई है। मौसम के जानकारों के मुताबिक वैज्ञानिक गुफरान बेग ने बताया देश के पश्चिमी हिस्से में उठी धूल भरी आंधी की वजह से हवा में बड़े कणों की संख्या बढ़ गई है जिससे दिल्ली में हालात खराब हो गए हैं।

चर्चा का विषय बना मौसम 

यहां यह भी बता दें कि बीते शनिवार को दिल्ली और आसपास के इलाकों में पहले तेज आंधी और फिर अचानक मौसम में हुआ बदलाव चर्चा का विषय बन गया था। शनिवार शाम मौसम में हुए बदलाव की वजह से राजधानी बदली हुई नजर आई थी। मौसम से जुड़ी तमाम जानकारी के लिए लोग फोन पर एक-दूसरे से संपर्क बनाए हुए थे, इतना ही नहीं आंधी और बारिश की वजह से सड़क पर वाहनों की रफ्तार भी थम गई थी।

यह भी पढ़ें: दिल्ली-NCR में ये है बदले हुए मौसम का हाल, गर्म हवा ने किया परेशान, धूल से भर गया आसमान

Posted By: Amit Mishra