नई दिल्ली [वीके शुक्ला]। दिल्ली मेट्रो और बसों में सभी सीटों पर सवारियां बैठाने की अनुमति के लिए दिल्ली सरकार डीडीएमए (दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) की अगले सप्ताह होने वाली बैठक में फिर प्रस्ताव रखेगी। दिल्ली सरकार ने परिवहन विभाग से इस बारे में प्रस्ताव तैयार करने को कहा है। सरकार के सूत्रों का कहना है कि डीडीएमए इस बार इस बारे में फैसला ले सकता है। इस तरह से अगले सप्ताह से जनता को इन दोनों मामलों में अनुमति मिल सकती है।

दिल्ली में कोरोना की संक्रमण दर काफी नीचे है और कोरोना के प्रतिदिन आने वाले मरीज भी अब काफी कम हैं। मगर तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए डीडीएमए अभी कई मामलों में सख्ती बनाए हुए है। अभी बसों और मेट्रो में 50 फीसद क्षमता के साथ ही सवारियां ही बैठाने की इजाजत है। इससे जनता को भारी परेशानी हो रही है।

मेट्रो स्टेशनों के बाहर लग रही हैं लंबी लाइनें

दिल्ली मेट्रो के लगभग सभी स्टेशनों के बाहर व्यस्त समय में लंबी लाइनें लग रही हैं। लोग बस स्टेंड पर खड़े रह जाते हैं और बसें आधी खाली दौड़ती रहती हैं। अगले सप्ताह से ये परेशानी कम हो सकती है। डीडीएमए कोरोना के घटते मामले को देखते हुए मेट्रो व बस परिचालन में कोविड नियमों में थोड़ी और राहत दे सकता है। मगर बसों और मेट्रो में खड़े होने की इजाजत अभी नहीं होगी। अगर मेट्रो और डीटीसी बसों में सभी सीटों पर बैठकर सफर करने की इजाजत मिल जाती है तो यात्रियों को इससे बड़ी राहत मिलेगी। साथ ही लंबी-लंबी लाइनों से छुटकारा मिलने की उम्मीद है।

ये भी पढ़ेंः ट्रेन में सफर के दौरान न करें ये गलती, महज 16 दिन में यात्रियों से वसूला गया 1.17 करोड़ रुपये जुर्माना

कोरोना की दूसरी लहर के चलते अप्रैल में लगे लाकडाउन के बाद दिल्ली में 31 मई से अनलाक की प्रक्रिया शुरू हुई थी। उसके बाद सात जून से दिल्ली में मेट्रो और बसों को 50 फीसद क्षमता के साथ शुरू किया गया था। मगर अभी दोनों मामलों में खडे़ होकर यात्रा करने की इजाजत नहीं है।

यह भी पढ़ेंः कोरोना काल में पैसे की तंगी झेल रहे कलाकारों के लिए झलका अक्षय कुमार का दर्द, दिए 50 लाख रुपये

ये भी पढ़ेंः निगम चुनाव से पहले भाजपा ने खेला बड़ा दांव, MCD कर्मचारियों को मिलने जा रही बड़ी खुशखबरी

 

Edited By: Mangal Yadav