नई दिल्ली, जेएनएन। दिल्ली विकास प्राधिकरण (Delhi Development Authority) की आवासीय योजना- 2019 के बचे हुए ईडब्ल्यूएस फ्लैटों के लिए 30 अगस्त से आवेदन किया जा सकेगा। आवेदन डीडीए की वेबसाइट पर ऑनलाइन होंगे। इस आशय की घोषणा डीडीए ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर बृहस्पतिवार को की।

विशेष बात यह कि ये सभी फ्लैट 10 से 40 फीसद तक की रियायती दरों पर दिए जाएंगे। निर्माण लागत में 40 फीसद छूट नरेला के पॉकेट 1 ए, 1 बी और 1 सी, में बने 6,536 फ्लैटों पर रहेगी। जबकि पॉकेट जी 7/जी 8, सेक्टर ए में बने 960 फ्लैटों पर यह छूट 10 फीसद होगी।

5 लाख तक मिलेगी छूट
दरअसल, आवासीय योजना 2019 में दो श्रेणी के ईडब्ल्यूएस फ्लैट लांच किए गए थे। कुछ फ्लैट तो पुराने बने हुए थे, जबकि 6,536 फ्लैटों का निर्माण नया किया गया था। नए बने फ्लैटों में पार्किंग, लिफ्ट आदि की सुविधाएं भी हैं। डीडीए की ओर से इन नए फ्लैटों की कीमत 17 से 19 लाख रुपए तक रखी गई थी। इन फ्लैटों पर 40 फीसद छूट के बाद इनकी कीमत में लगभग 5 लाख रुपये तक का अंतर आ जाएगा। इसी प्रकार पुराने बने फ्लैटों की कीमत 10 लाख रुपये है, जिन पर 10 फीसद की छूट दी जाएगी।

डीडीए के उपाध्यक्ष तरुण कपूर ने बताया कि रियायती दरों पर ईडब्ल्यूएस फ्लैटों की योजना लांच करने की तैयारी लगभग पूरी हो गई है। इश्तहार जारी कर इसकी घोषणा भी कर दी गई। 30 अगस्त से आवेदन मांगे जाएंगे। सभी फ्लैटों का आवंटन ड्रॉ से ही किया जाएगा।

जुलाई में किया गया था आवासीय योजना- 2019 का ड्रॉ
बता दें कि 23 जुलाई को डीडीए की आवासीय योजना- 2019 का ड्रॉ किया गया था। लेकिन ड्रॉ में 17,922 फ्लैटों में से केवल 10,294 फ्लैट शामिल किए जा सके। इनमें भी विभिन्न श्रेणियों के तहत आवंटन केवल 8,438 फ्लैटों को किया जा सका। उम्मीद के अनुरूप काफी कम आवेदन मिलने के कारण 9,484 हजार फ्लैटों का आवंटन हो ही नहीं पाया था।

कुल 45,012 आवेदन आए थे
डीडीए की आवासीय योजना-2019 25 मार्च 2019 का लांच की गई थी। इसमें 45,012 आवेदन आए। आवेदन चार श्रेणियों एमआइजी, एचआइजी, एलआइजी और ईडब्ल्यूएस के लिए मंगाए गए थे। इसमें 1550 एमआइजी और 450 एचआइजी के लिए 38,147 आवेदन मिले। 8300 एलआइजी फ्लैटों के लिए करीब 5,911 आवेदन और ईडब्ल्यूएस के 7700 फ्लैटों के लिए 954 आवेदन मिले। आवेदन की अंतिम तारीख पहले 10 मई थी जिसे बाद में बढ़ाकर 10 जून कर दी गई थी। आवेदकों में से 36,409 सामान्य वर्ग, 5,021 अनुसूचित जाति और 2,025 अनुसूचित जनजाति और 97 युद्ध विधवाएं रहीं।
 

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: Mangal Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप