नई दिल्ली,जागरण संवाददाता। वैश्विक महामारी कोरोना के खिलाफ लॉकडाउन के सहारे जंग में दिल्ली के किराना कारोबारी बखूबी साथ दे रहे हैं। वह नए तरीकों का प्रयोग कर ग्राहकों को जरूरी सामानों की आपूर्ति कर रहे हैं। हालांकि, कुछ दुकानदारों द्वारा सामानों के दाम बढ़ाकर बेचने की भी शिकायतें आ रही है। जिसपर जिला प्रशासन आवश्यक कार्रवाई भी कर रही है। वहीं, कारोबारी संगठन भी खुदरा दुकानदारों से राष्ट्र सेवा में मानवीय आधार पर सहयोग की भी अपील कर रहे हैं। ऐसे में गलियों में स्थिति किराना की दुकानें स्थानीय लोगों के लिए लॉकडाउन में बड़ा सहारा बनकर उभरी हैं। लोगों को भी ई-कॉमर्स के के दौर में संकट की इस घड़ी में आखिरकार खुदरा किराना दुकानदार ही काम आ रहे हैं।

इस बारे में दिल्ली किराना कमेटी के अध्यक्ष विजय गुप्ता ने कहा कि हम भी देश के नागरिक हैं और इस संकट की घड़ी में हम सब साथ खड़े हैं। दिल्ली में किसी को किसी जरूरी वस्तु की कमी नहीं होने दी जाएगी।

लॉकडाउन की घोषणा के बाद दुकानों पर मची अफरा-तफरी

वैसे, लॉकडाउन में लोगों से जरूरी न होने पर बाहर निकलने और एक जगह अधिक लोगों को जुटने पर मना किया गया है। मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बुधवार से पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा से अचानक किराना की दुकानों पर अफरातफरी मच गई थी। इसे देखते हुए कई दुकानदारों ने वाट्सएप और फोन की सुविधा जारी की है। उनके मुताबिक यह व्यवस्था इसलिए की लोग दुकानों के आगे भीड़ न लगाएं। इससे महामारी फैलने की पूरी आशंका है। ऐसे में कई दुकानदारों ने दुकानों के आगे नोटिस बोर्ड में वाट्सएप और मोबाइल नंबर जारी कर दिए हैं। जिसके माध्यम से ग्राहकों के ऑर्डर लिए जा रहे हैं और सामान आकर ले जाने का नियत समय बता दिया जा रहा है। वहीं, जरूरी होने पर आस-पास के घरों में सामानों की आपूर्ति भी की जा रही है।

यह व्यवस्था लोगों के लिए काफी राहत देने वाला साबित हो रहा है। पांडव नगर निवासी अमित सिंह के मुताबिक जब ई-कॉमर्स कंपनियां जरूरी सामानों के आपूर्ति से हाथ खड़े कर दे रही है। तब ये गली के किराना दुकानदार ही उनके मददगार साबित हो रहे हैं।

किराना दुकानदार व्हॉट्सएप से ले रहे ऑर्डर

वेस्ट विनोद नगर स्थित जीतू जनरल स्टोर के संचालक मोहित गुप्ता ने बताया कि उसने वाट्सएप नंबर जारी किया है। ताकि लोग परेशान न हो और अधिक समय के लिए अपने घरों से बाहर नहीं निकले। वहीं, जेजे कालोनी इंद्रपुरी आरडब्ल्यूए के सचिव ओमप्रकाश बैरवाल ने कई दुकानदारों पर अचानक दाम बढ़ाने का आरोप लगाते हुए कहा कि आटा, चावल व दाल जैसे जरूरी सामानों के दामों में 20 से 30 फीसद की अचानक बढ़ोत्तरी है। यह स्थिति ठीक नहीं है। सरकार को इसपर ध्यान देना चाहिए।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस