नई दिल्ली [संतोष शर्मा]। Coronavirus: दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहे हैं। देश में मरीजों का आंकड़ा  डेढ़ लाख को पार कर चुका है। इस बीच केंद्र सरकार ने सीमित रूट पर हवाई और ट्रेन यात्रा शुरू कर दी है, लेकिन तथ्य यह है कि ज्यादातर भारतीय कोरोना संक्रमण के डर से हवाई और रेल यात्रा नहीं करना चाहते।

जून में 10 फीसद लोग करना चाहते हैं रेल यात्रा

सोशल मीडिया कंपनी लोकल सर्कल के सर्वे में कोरोना के डर से 76 फीसद भारतीयों ने फिलहाल विमान यात्रा करने से मना किया, वहीं 90 फीसद लोगों ने रेल यात्रा से दूरी बनाये रखने की बात कही। केवल लॉकडाउन के दौरान फंसे या जरूरी काम से 21 फीसद लोगों ने कहा कि उनके घर के एक या अधिक सदस्य संभवत: आगामी दिनों में उड़ान ले सकते हैं। वहीं 10 फीसद लोगों ने जून में रेल यात्रा करने की बात कही।

शारीरिक दूरी के नियमों का पालन नहीं हो रहा है ट्रेनों में

ऐसा देखने में आ रहा है कि ट्रेनों में भी यात्रा के दौरान शारीरिक दूरी का सही से पालन नहीं किया जा रहा है। इससे यात्रियों में डर और असमंजस की स्थिति बनी हुई है। इसको लेकर लोकल सर्कल ने देश के 212 जिले में अगले 30 दिनों में विमान और रेल यात्रा करने के संबंध में सर्वे कराया।

सर्वे में शामिल हुए 16 हजार लोग

बताया जा रहा है कि 23 मई से 25 तक हुए सर्वे में 16 हजार लोगों का मत लिया गया। सवाल में 76 फीसद लोगों ने हवाई यात्रा से इनकार किया। केवल 10 फीसद ने विमान का टिकट बुक करने, जबकि 11 फीसद ने आगामी दिनों में हवाई यात्रा की बात कही। रेलवे से यात्रा करने वालों में भी यही रूझान मिला। सिर्फ 10 फीसद लोगों ने ही जून में यात्रा करने के सवाल पर सहमति जताई।

लोकल सर्कल के जीएम अक्षय गुप्ता ने कहा कि देश मे कोरोना संक्रमितों की संख्या में रोजाना इजाफा हो रहा है। एक ओर जहां कोरोना का डर है। वहीं सीमित संख्या में शुरू हुई विमान सेवा के लिए अलग-अलग राज्यों में क्वारंटाइन की अलग अलग शर्तें रखी गई हैं। इसके कारण विमान शुरू नहीं होने से आइजीआइ एयरपोर्ट पर 25 मई को सैकड़ों यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ी।

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस