नई दिल्ली [राज्य ब्यूरो]। पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस की दरों में वृद्धि और बढ़ती महंगाई को लेकर किए गए भारत बंद के दौरान सोमवार को प्रदेश कांग्रेस ने 280 पेट्रोल पंपों पर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान पूसा रोड स्थित होटल सिद्धार्थ वाले पेट्रोल पंप पर किए गए प्रदर्शन में प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन सहित कई बड़े नेता भी शरीक हुए। यहां बैलगाड़ी पर चढ़ माकन ने कहा कि केंद्र की भाजपा व दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी एवं वैट इतना बढ़ा दिया है कि दोनों आम जनता की पहुंच से बाहर हो गए हैं।

बढ़ गई हैं कीमतें 
कांग्रेस नेता ने कहा कि यूपीए सरकार के समय में पेट्रोल पर मई 2014 में एक्साइज ड्यूटी 9.20 रुपये प्रति लीटर थी जबकि आज यह 19.48 रुपये प्रति लीटर कर दी गई है। यानी सीधे तौर पर 211.7 फीसद की वृद्धि। इसी प्रकार मई 2014 में जहा डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 3.46 रुपये प्रति लीटर थी वहीं अब यह 15.33 रुपये प्रति लीटर कर दी है, अर्थात 443.06 फीसद की वृद्धि। पेट्रोल व डीजल पर भारी टैक्स लगाए जाने के कारण रसोई गैस के दाम भी लगभग दोगुने हो गए हैं।

रोटी के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है
माकन कहा कि जो रसोई गैस यूपीए सरकार के समय में 400 रुपये प्रति सिलेंडर पर मिलती थी, अब वह प्रति सिलेंडर 754 रुपये हो गई है। कांग्रेस नेता ने कहा कि महंगाई से न सिर्फ गरीब बल्कि मध्यम वर्ग को भी दो वक्त की रोटी के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। जबकि दोनों सरकारों ने चुनाव समय में महंगाई कम करने का वादा किया था। माकन ने कहा कि केंद्र व दिल्ली सरकार अगर पेट्रोल-डीजल पर बढ़ी हुई एक्साइज एवं वैट दरें तुरंत प्रभाव से कम कर दे, तो दिल्ली में पेट्रोल और डीजल की कीमतें 45 रुपये प्रति लीटर से ऊपर नहीं होंगी। 

प्रदर्शन में कई बड़े नेता हुए शामिल 
प्रदर्शन में पूर्व सांसद सज्जन कुमार और महाबल मिश्रा, दिल्ली सरकार के पूर्व मंत्री किरण वालिया और रमाकात गोस्वामी, पूर्व विधायक मुकेश शर्मा, विपिन शर्मा, तरविन्दर सिंह मारवाह, भीष्म शर्मा, नीरज बसौया, विजय लोचव, अनिल भारद्वाज, अरविन्दर सिंह लवली, मुख्य मीडिया प्रभारी मेंहदी माजिद, चत्तर सिंह, जिला अध्यक्ष मदन खोरवाल सहित बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता शामिल थे।