नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। लूट की झूठी कहानी गढ़कर पुलिस को गुमराह करने वाले शातिर कलेक्शन एजेंट को रोहिणी जिले की स्पेशल स्टाफ टीम ने गिरफ्तार किया है। आरोपित की पहचान केशवपुरम के पंकज शर्मा के रूप में हुई है। पुलिस ने आरोपित के पास से 11,66,425 रुपये बरामद कर लिए हैं। पुलिस को तब पता चला कि शिकायतकर्ता ही आरोपित है जब उन्होंने वारदात के आसपास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली। पुलिस उपायुक्त प्रणव तायल ने बताया कि पुलिस को दी शिकायत में आरोपित पंकज शर्मा ने बताया था कि वह काशवी इंटरप्राइजेज में बतौर कलेक्शन एजेंट काम करता है।

वह रोहिणी सेक्टर आठ में सुनील के बेटे रवि से 11,66,425 रुपये लेने गए थे। पैसे लेकर उन्होंने स्कूटी की डिग्गी में रख लिए। जब वह रोहिणी सेक्टर नौ के स्वर्ण जयंती पार्क के पीछे पहुंचे तो अचानक बाइक पर सवार होकर तीन आरोपित आए। इस दौरान दो आरोपित बाइक से उतरे व उनमें से एक ने पिस्टल के बल पर उनसे सारे पैसे लूट लिए। मामले की गंभीरता को देखते हुए स्पेशल स्टाफ के एसीपी ईश्वर सिंह के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई।

टीम ने जब वारदात के आसपास के करीब 60 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली तो पता चला कि जहां पर पीड़ित बता रहा है कि उससे लूटपाट की गई है वहां तो कोई बाइक सवार तीन युवक आए ही नहीं। इसके बाद पुलिस को शिकायतकर्ता पर ही शक हुआ। पुलिस ने पंकज से पूछताछ की तो पहले तो वह पुलिस को गोल-गोल घुमाता रहा, लेकिन बाद में वह अपनी ही बातों में फंस गया।

आरोपित ने कबूल कर लिया की उसने लूट का नाटक किया था। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर उसके घर से 11,66,425 रुपये बरामद कर लिए। आरोपित दसवीं तक पढ़ा है और तीन वर्ष से काशवी इंटरप्राइजेज में कलेक्शन एजेंट के रूप में कार्य कर रहा था।

Edited By: Pradeep Chauhan